ग्रेट मुग़ल हीरा  

ग्रेट मुग़ल हीरा भारत का सबसे बड़ा और सबसे अधिक वजन वाला हीरा है। गोलकुंडा की खान से 1650 में जब यह हीरा निकला तो इसका वजन 787 (800) कैरेट था। यानी कोहिनूर से क़रीब छह गुना भारी। कहा तो यह भी जाता है कि कोहिनूर भी ग्रेट मुग़ल का ही एक अंश है। इसकी तुलना इरानियन क्राउन में जड़े बेशकीमती दरिया-ए-नूर हीरे से भी की जाती है। 1665 में फ्रांस के जवाहरातों के व्यापारी ने इसे अपने समय का सबसे बड़ा रोजकट हीरा बताया था और इस हीरे को अदभुत और दुर्लभ बताया था। इस हीरे को भी नादिर शाह ने भारत से लूटा था। अंतिम जानकारी तक नादिरशाह के ख़ज़ाने की शान यह हीरा आज समय की खराद पर घिसकर 280 कैरेट का हो चुका था। फ़िलहाल यह हीरा आज कहां है किसी को पता नहीं।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ग्रेट_मुग़ल_हीरा&oldid=499671" से लिया गया