चल चल रे नौजवान  

चल चल रे नौजवान
कवि प्रदीप
विवरण चल चल रे नौजवान एक प्रसिद्ध फ़िल्मी गीत है।
रचनाकार कवि प्रदीप
फ़िल्म बंधन (1940)
संगीतकार रामचंद्र पाल
गायक/गायिका अशोक कुमार, लीला चिटनिस
अन्य जानकारी कवि प्रदीप का मूल नाम 'रामचंद्र नारायणजी द्विवेदी' था। प्रदीप हिंदी साहित्य जगत् और हिंदी फ़िल्म जगत् के एक अति सुदृढ़ रचनाकार रहे। कवि प्रदीप 'ऐ मेरे वतन के लोगों' सरीखे देशभक्ति गीतों के लिए जाने जाते हैं।

दूर तेरा गाँव
और थके पाँव
फिर भी तू हरदम
आगे बढ़ा क़दम
रुकना तेरा काम नहीं
चलना तेरी शान
चल-चल रे नौजवान
चल-चल रे नौजवान

तू आगे बढ़े जा
आफ़त से लड़े जा
आँधी हो या तूफ़ान
फटता हो आसमान
रुकना तेरा काम नहीं
चलना तेरी शान
चल-चल रे नौजवान
चल-चल रे नौजवान

ये है ज़िन्दगी का कारवाँ
आज यहाँ और कल वहाँ
(फिर क्यों तेरा दिल हुआ अधीर
फिर क्यों तेरे नैनों में नीर) – 2
फिर क्यों तेरे प्राणों में पीर
तू न सुना मन की बात कौन सुनेगा
कौन सुनेगा
बन्द कर ज़बान
बन्द कर ज़बान
रुकना तेरा काम नहीं
चलना तेरी शान
चल-चल रे नौजवान
चल-चल रे नौजवान
चल-चल रे नौजवान


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चल_चल_रे_नौजवान&oldid=597033" से लिया गया