चाँदनी चौक  

चाँदनी चौक भारत की राजधानी दिल्ली का एक आकर्षक पर्यटन स्थल है। मुग़ल बादशाह शाहजहाँ की पुत्री जहाँआरा द्वारा 1648 में स्थापित यह बाज़ार वर्तमान में एशिया का सबसे बड़ा थोक व्यापार का केन्द्र है।

  • यहाँ पुराने समय में तुर्की, चीन और हॉलैंड के व्‍यापारी व्‍यापार करने आते थे।
  • दिल्‍ली आने वाले किसी भी व्‍यक्ति की यात्रा तब तक पूरी नहीं हो सकती जब तक वह चाँदनी चौक न जाए।
  • यह मुग़ल काल में प्रमुख व्‍यवसायिक केंद्र था।
  • इसका डिजाइन शाहजहाँ की पुत्री जहाँआरा बेगम ने बनाया था।
  • यहाँ की गलियाँ संकरी हैं। इसलिए यहाँ गा‍ड़ी लेकर न आने की सलाह दी जाती है।
  • लाल क़िला के मुख्य द्वार के सामने पूर्व में स्थित इस भीड़भाड़ भरे बाज़ार में सोने-चाँदी के आभूषण, कलाकृतियों के लिए जामा मस्जिद, पुस्तकों के लिए नई सड़क व सूखे मेवे-मसालों के लिए सीसगंज गुरुद्वारा, टॉउन हॉल, लाल मन्दिर, गौरीशंकर मन्दिर एवं सुनहरी मस्जिद भी स्थित है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चाँदनी_चौक&oldid=266409" से लिया गया