Makhanchor.jpg भारतकोश की ओर से आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ Makhanchor.jpg

दिल्ली विश्वविद्यालय  

दिल्ली विश्वविद्यालय

दिल्ली विश्वविद्यालय भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित एक केन्द्रीय विश्वविद्यालय है, जो भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित है। हर साल देश भर से छात्र बड़ी संख्या में दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) में दाखिला लेने के लिए आते हैं। वे इसके 77 कॉलेजों और 86 विभागों में से किसी एक में प्रवेश के लिए लालायित रहते हैं।

स्थापना

दिल्ली विश्वविद्यालय की स्थापना फरवरी, 1922 में तत्कालीन केन्द्रीय विधानसभा के एक अधिनियम के तहत अध्यापन और आवासीय विश्वविद्यालय के नाते एकल संस्थान के तौर पर की गई थी। यह देश में उच्चतर अध्ययन के अग्रणी संस्थानों में से एक है तथा उपयोग आधारित विषयों में अल्प अवधि एवं दीर्घ अवधि के प्रमाण पत्र/डिप्लोमा पाठयक्रमों के अतिरिक्त काफ़ी विषयों में अवर-स्नातक तथा स्नातकोत्तर कार्यक्रम प्रदान करता है।

विश्वविद्यालय प्रांगण

उत्तरी दिल्ली में डीयू के मुख्य कैम्पस में, जिसे 'नॉर्थ कैम्पस' के नाम से जाना जाता है, आने-जाने वाली सड़कों का जाल बिछा हुआ है। इसीलिए अन्य परम्परागत शान्त और आबादी से दूर अलग-थलग स्थित विश्वविद्यालयों के एकरसतापूर्ण वातावरण से यह एकदम अगल है। दक्षिणी कैम्पस अपेक्षाकृत छोटा और बिखरा हुआ है।

पाठ्यक्रम

  • 1922 में स्थापित यह विश्वविद्यालय स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर पर पाठ्यक्रम उपलब्ध कराता है। विश्वविद्यालय की अकादमिक गतिविधियां 18 संकायों, 85 विभागों, 73 कॉलेजों तथा 63 दूसरे केन्द्रों या इकाईयों के माध्यम से संचालित की जाती है। इसके अतिरिक्त विश्वविद्यालय के 5 अन्य मान्यता प्राप्त संस्थान भी हैं।

सेमेस्टर व्यवस्था

2010 के सुधारों के बाद विश्वविद्यालय में इस साल से सेमेस्टर व्यवस्था लागू कर दी गई है। यह व्यवस्था छात्रों को कोर्सों के चयन और शिक्षकों को कोर्सों में बदलाव करने के लिए पहले से अधिक लचीलापन मुहैया कराएगी। यह व्यवस्था लागू हो जाने से छात्रों पर कोर्स को बोझ कम हो जायेगा और वे अपने विषय पर ज़्यादा ध्यान दे पायेंगे। बिना सेमेस्टर वाली व्यवस्था में छात्र भूल जाते हैं कि साल के शुरू में उन्हें क्या पढ़ाया गया था।

छात्रों की सुरक्षा व्यवस्था

छात्रों की सुरक्षा के लिए विश्वविद्यालय ने देर से घर जाने वाले छात्रों के लिए एक अनुठी सुरक्षा व्यवस्था अपनाई है, ख़ासकर पोस्ट ग्रेजुएट और शोध छात्राओं के लिए, जिन्हें शोध सम्बन्धी प्रयोगशालाओं में देर तक रुकना पड़ता है। बसों की नई व्यवस्था, जिसमें छात्र सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक बसों से आते-जाते रहते हैं, बहुत सफल है।

छात्रावास

डीयू में फिलहाल 2,000 छात्रों के लिए हॉस्टल की व्यवस्था है और अब यहाँ 1500 छात्राओं के लिए एक नये गर्ल्स हॉस्टल की भी सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। 90 करोड़ की लागत से बन रहे इस हॉस्टल में उत्तर-पूर्व से आने वाली और आदिवासी छात्राओं को विशेष प्राथमिकता दी जाएगी। यह छात्रावास इस शैक्षिक वर्ष के अन्त तक बनकर तैयार हो जायेगा।

विशेष

  • यह अकेला विश्वविद्यालय है, जो पोस्ट ग्रेजुएट के छात्रों को अध्यापन में सहयोग के लिए 30,000 रुपये प्रतिमाह देता है।
  • यहाँ की लाइब्रेरी सबसे बड़ी ऑनलाइन जर्नल लाइब्रेरियों में से एक है। कैम्पस की लाइब्रेरी में, जिसका लाभ ऑनलाइन के जरिए कहीं पर से भी उठाया जा सकता है, 30,000 से ज़्यादा पत्रिकाएँ आती हैं।
  • अनोखी सुरक्षा व्यवस्था, जिसमें देर से घर जाने वाली छात्राओं को सुरक्षा गार्ड मुहैया कराया जाता है।
  • पिछले नौ दशक से यह विश्वविद्यालय अनुसंधान से लेकर रंगमंच और शिक्षा तक हर क्षेत्र में देश का गौरव रहा है और समय की कसौटी पर खरा उतरा है।
  • छात्रों के लिए यहाँ की नियमित कक्षाएँ और समय पर चलने वाला शिक्षा सत्र इसकी सबसे बड़ी विशेषता है।
  • दिल्ली में दिल्ली विश्वविद्यालय 1857 की ख़ूनी क्रान्ति के समय का चश्मदीद गवाह है।
  • म्युटिनी स्मृति स्थल एवं फ़्लैग स्टाफ़ टॉवर उस ख़ूनी क्रान्ति की जीवन्त मिसाले हैं।
  • हरा-भरा दिल्ली विश्वविद्यालय का कार्यालय किसी जमाने में विकारिगल लॉज हुआ करता था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दिल्ली_विश्वविद्यालय&oldid=205080" से लिया गया