साउथ ब्लॉक  

साउथ ब्लॉक रायसीना पहाड़ी पर राजपथ की एक ओर स्थित है। विदेश मंत्रालय मुख्यत: साउथ ब्लॉक में अवस्थित है, जिसमें 'प्रधानमंत्री कार्यालय' और 'रक्षा मंत्रालय' भी है। विदेश मंत्रालय के कुछ कार्यालय, 'अकबर भवन', 'शास्त्री भवन', 'पटियाला हाउस' तथा 'आई.एस.आई.एल. भवन' में भी स्थित हैं।

निर्माण

राजपथ के एक ओर 'साउथ ब्लॉक' एवं दूसरी ओर 'नार्थ ब्लॉक' स्थित है, जिनका निर्माण 1931 में किया गया था। 20वीं सदी के प्रारंभ में ब्रिटेन के एक सुविख्यात वास्तुकार हरबर्ट बेकर द्वारा अभिकल्पित सचिवालय की दोनों भव्य इमारतें सेंट्रल विस्टा के दोनों ओर राष्ट्रपति भवन के पार्श्व में स्थित हैं। साउथ ब्लॉक मेहराबदार सीढियों और ऊँची छत वाले गलियारों की भूल-भूलैया है। विशाल गुम्बजों वाले स्तम्भ, श्रेणियाँ तथा सपाट छतें इस भवन की उल्लेखनीय विशेषताएँ हैं।

विशेषताएँ

हरबर्ट बेकर के साथ-साथ एडविन लुटियन, जिन्होंने नई दिल्ली के लिए सरकारी भवनों को अभिकल्पित किया है, उनके निर्माण कला की निम्न विशेषताएँ हैं-

  • भवनों में 'जाली' और 'छज्जा' जैसे विशिष्ट भारतीय वास्तुशिल्प का इस्तेमाल किया है।
  • जाली, जो कि एक जटिल कटावदार सजावटी पत्थरों का आवरण है, भारतीय जलवायु की विषम परिस्थतियों के लिए अनुकूल है।
  • छज्जा, जो कि पत्थरों की एक पतली परत का विस्तार है, दीवारों और खिड़कियों को गर्मी में चमकीली धूप और मानसून की भारी वर्षा से रक्षा करती है।
  • वास्तुकारों द्वारा अपनाई गई एक तीसरी विशेषता 'छतरी' अथवा छतरी के आकार का गुम्बज है, जो कि सपाट, क्षैतिज रूपरेखा की नीरसता को तोड़ता है।

ये सारी विशेषताएँ साउथ ब्लॉक में देखी जा सकती हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=साउथ_ब्लॉक&oldid=360436" से लिया गया