छठी पंचवर्षीय योजना  

छठी पंचवर्षीय योजना
छठी पंचवर्षीय योजना
विवरण यह भारत की राष्ट्रीय योजना है जो प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में योजना आयोग द्वारा विकसित और कार्यान्वित होती है।
कार्यकाल वर्ष 1980 से 1985 तक
अध्यक्ष इंदिरा गाँधी
उपाध्यक्ष एन.डी. तिवारी
योजना आकार 97,500 करोड़
विकास लक्ष्य 5.2 फ़ीसदी
वास्तविक 5.06 फ़ीसदी
अन्य जानकारी इस योजना का मुख्य उद्देश्य कृषि तथा सम्बद्ध क्षेत्र में रोज़गार का विस्तार करना, जन- उपभोग की वस्तुएँ तैयार करने वाले कुटीर एवं लघु उद्योगों को बढ़ावा देना था।

छठी पंचवर्षीय योजना का कार्यकाल 1980 से 1985 तक रहा। छठी योजना दो बार तैयार की गयी। जनता पार्टी द्वारा 1978 - 1983 की अवधि हेतु 'अनवरत योजना' बनायी गयी।

मुख्य उद्देश्य

छठी योजना का मुख्य उद्देश्य कृषि तथा सम्बद्ध क्षेत्र में रोज़गार का विस्तार करना, जन- उपभोग की वस्तुएँ तैयार करने वाले कुटीर एवं लघु उद्योगों को बढ़ावा देना और न्यूनतम आवश्यकता कार्यक्रम द्वारा निम्नतम आय वर्गों की आय बढ़ाना था। परंतु जब कांग्रेस सरकार ने नयी छठी योजना 1980 से 1985 की अवधि हेतु तैयार की, तब विकास के 'नेहरू मॉडल' को अपनाया गया, जिसका लक्ष्य 'एक विकासोन्मुख अर्थव्यवस्था में ग़रीबी की समस्या' पर सीधा प्रहार करना था।

सभी पंचवर्षीय योजनाओं का तुलनात्मक अध्ययन

Observations on the Progress.JPG
Five-year plan equitymaster.gif


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=छठी_पंचवर्षीय_योजना&oldid=622447" से लिया गया