ज्ञानेश्वरी  

ज्ञानेश्वरी मराठी भाषा में 'भगवद्गीता' पर लिखी गई सर्वप्रथम ओवीबद्ध टीका है। वस्तुत: यह काव्यमय प्रवचन है, जिसे संत ज्ञानेश्वर ने अपने गुरु निवृत्तिनाथ के निदर्शन में अन्य संतों के समक्ष किया था।

रसपूर्ण विवेचन

'ज्ञानेश्वरी' में 'गीता' के मूल 700 श्लोकों का मराठी भाषा की 9000 ओवियों में अत्यंत रसपूर्ण विशद विवेचन है। अंतर केवल इतना ही है कि यह शंकराचार्य के समान 'गीता' का प्रतिपद भाष्य नहीं है। यथार्थ में यह 'गीता' की भावार्थदीपिका है। यह भाष्य अथवा टीका ज्ञानेश्वर जी की स्वतंत्र बुद्धि की देन है। मूल 'गीता' की अध्यायसंगति और श्लोकसंगति के विषय में भी कवि की स्वयंप्रज्ञा अनेक स्थलों पर प्रकट हुई है। प्रारंभिक अध्यायों की टीका संक्षिप्त है, परंतु क्रमश: ज्ञानेश्वर की प्रतिभा प्रस्फुटित होती गई है।[1]

सर्वश्रेष्ठ स्थान

गुरुभक्ति, श्रोताओं की प्रार्थना, मराठी भाषा का अभिमान, गीता का स्तवन, श्रीकृष्ण और अर्जुन का अकृत्रिम स्नेह इत्यादि विषयों ने ज्ञानेश्वर को विशेष रूप से मुग्ध कर लिया है। इनका विवेचन करते समय ज्ञानेश्वर की वाणी वस्तुत: अक्षर साहित्य के अलंकारों से मंडित हो गई है। यह सत्य है कि आज तक 'श्रीमद्भागवदगीता' पर साधिकार वाणी से कई काव्य ग्रंथ लिखे गए। अपने कतिपय गुणों के कारण उनके निर्माता अपने-अपने स्थानों पर श्रेष्ठ ही हैं, तथापि डॉ. रा. द. रानडे के समुचित शब्दों में यह कहना ही होगा कि "विद्वत्ता, कविता और साधुता इन तीन दृष्टियों से 'गीता' की सभी टीकाओं में 'ज्ञानेश्वरी' का स्थान सर्वश्रेष्ठ है।

आधार

ज्ञानेश्वर ने अपनी टीका शंकराचार्य के 'गीताभाष्य' के आधार पर लिखी है। ज्ञानदेव के स्वयं नाथ संप्रदाय में दीक्षित हाने के कारण उनके इस ग्रंथ में उक्त संप्रदाय के यत्र-तत्र संकेत मिलते हैं। गीता-भाष्य में वर्णित ज्ञान एवं भक्ति के समन्वय के साथ नाथ संप्रदाय के योग, स्वानुभव इत्यादि बातों का ज्ञानदेव के विवेचन में समावेश हुआ है। इन्होंने इन मूल सिद्धांतों को भागवत सम्प्रदाय की सुदृढ़ पीठिका पर प्रतिष्ठित किया है। 'ज्ञानेश्वरी' भक्ति रस प्रधान ग्रंथ है। ईश्वर-प्राप्ति का एकमेव साधन भक्ति ही है, यह इसका महासिद्धांत है। ज्ञानदेव की भक्ति, पूजन अर्चना, व्रत तथा नियमादि से बाह्य स्वरूप की नहीं अपितु नामस्मरणदि साधनों वाली अंतर स्वरूप की थी। नाथपंथ का योगमार्ग जन साधारण के लिये सहज साध्य न होने के कारण ज्ञानेश्वर ने उसे भक्ति का अधिष्ठान देकर ईश्वर भक्ति रूपी नेत्रों से युक्त कर दिया।[1]

स्फूर्तिवाद

भारतीय दर्शन की विचार परंपरा से ज्ञानेश्वर द्वारा प्रतिपादित 'स्फूर्तिवाद' को महत्व का स्थान देना होगा, 'ज्ञानेश्वरी' में स्फुरणरूप से अथवा बीजरूप से व्यक्त होने वाला 'स्फूर्तिवाद' ज्ञानेश्वर द्वारा उनके 'अमृतानुभव' नामक एक छोटे ग्रंथ में विशद रूप से प्रतिपादित है। इस ग्रंथ के सातवें अध्याय में ज्ञानदेव ने 'विश्व का ही नाम चिद्विलास है', यह सिद्धांत तर्क शुद्ध पद्धति से प्रतिपादित किया है।

अलंकार पक्ष

'ज्ञानेश्वरी' के अलंकार पक्ष का अवलोकन करने पर कवि के प्रतिभासंपन्न हृदय के दर्शन होते हैं। ऐसा प्रतीत होता है, मानो वे उपमा और रूपक के माध्यम से ही बोल रहे हों। उनकी इस रचना में मालोपमा और सांगरूपक मुक्त हस्त से बिखेरे गए हैं। विशेषता यह है कि ये सारी उपमाएँ और रूपक 'गीता' टीका से तादात्म्य पा गए हैं। मायानदी, गुरुपूजा, पुरुष, प्रकृति, चित्सूर्य आदि उनके मराठी साहित्य में ही नहीं, अपितु विश्ववाङॅमय में अलौकिक माने जा सकते हैं। ये ही वे रूपक हैं, जिनमें काव्य और दर्शन की धाराएँ घुल मिल गई हैं।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 ज्ञानेश्वरी (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 30 अप्रैल, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ज्ञानेश्वरी&oldid=610035" से लिया गया