तेजी बच्चन  

तेजी बच्चन
तेजी बच्चन
पूरा नाम तेजी बच्चन
जन्म 12 अगस्त, सन् 1914
जन्म भूमि लायलपुर (पाकिस्तान)
मृत्यु 21 दिसंबर, 2007
मृत्यु स्थान मुंबई, महाराष्ट्र
अभिभावक पिता- सरदार खजान सिंह
पति/पत्नी हरिवंश राय बच्चन
संतान अमिताभ बच्चन और अजिताभ बच्चन
कर्म भूमि भारत
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख हरिवंश राय बच्चन, अमिताभ बच्चन
अन्य जानकारी तेजी एक अभिनेत्री भी थीं। वे कॉलेज के दिनों में नाटकों में भाग लेती थीं। वे एक अच्छी गायिका भी थीं और उन्होंने कई बार मंच पर अपनी कला का जौहर भी दिखाया था।

तेजी बच्चन (अंग्रेज़ी: Teji Bachchan, जन्म- 12 अगस्त, 1914 लायलपुर (पाकिस्तान); मृत्यु- 21 दिसम्बर, 2007, मुंबई) प्रसिद्ध साहित्यकार हरिवंश राय बच्चन की पत्नी और भारतीय सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन की माँ थीं। इनका जन्म एक सिक्ख परिवार में हुआ था। तेजी बच्चन हनुमानजी की परम भक्त थीं। उन्हें अभिनय और गायिकी का भी शौक़ था। कॉलेजों के दिनों में उन्होंने कई नाटकों में अभिनय तथा गायन आदि किया था। अमिताभ बच्चन में अभिनय के गुण अपनी माता तेजी बच्चन से ही आये थे। अपने समय में कवि हरिवंश राय बच्चन और तेजी बच्चन की जोड़ी भारत की चर्चित और लोकप्रिय जोड़ी मानी जाती थी। 2004 से तेजी बच्चन का अधिकतर समय बीमारी की वजह से अस्पताल में व्यतीत हुआ, और दिसम्बर, 2007 में उनका निधन हो गया।

परिचय

तेजी बच्चन का जन्म 1914 में फैसलाबाद में एक सिक्ख परिवार में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में है। पंजाबी परिवार में जन्मी तेजी बच्चन का मूल नाम तेजी सूरी था। वे हरिवंश राय बच्चन की ज़िंदगी में दूसरी पत्नी बन कर आई थीं। पहली पत्नी 'श्यामा' के निधन के बाद हरिवंश राय बच्चन ने तेजी से प्रेम विवाह किया था। यह शादी 1941 में हुई थी। तब से 2003 में हरिवंश राय के निधन तक तेजी ने हर क़दम पर पति का साथ निभाया। वर्ष 2003 में 96 वर्ष की उम्र में डा. हरिवंश राय बच्चन के निधन के बाद से ही तेजी का स्वास्थ्य गिरता गया।

हरिवंश राय बच्चन से मुलाकात

तेजी सूरी से हरिवंश राय बच्चन की मुलाकात बरेली में एक मित्र 'ज्ञानप्रकाश जौहरी' के घर हुई थी, जिनकी पत्नी लाहौर के 'फतेहचंद कॉलेज' में प्राचार्य थीं और तेजी उसी कॉलेज में मनोविज्ञान पढ़ाती थीं। तेजी बच्चन की कविताओं की प्रशंसक थीं, इसलिए दोनों के बीच प्रेम और विवाह होने में देर नहीं लगी। 24 जनवरी, 1942 को इलाहाबाद के ज़िला मजिस्ट्रेट की अदालत में उन्होंने अपना विवाह रजिस्टर कराया। उस समय के रूढ़िवादी समाज में यह एक विवादास्पद विवाह था। तेजी के पिता खजानसिंह लंदन से बैरिस्टरी करके आए थे और उन्होंने लायलपुर में प्रैक्टिस की थी। सरदार खजानसिंह बाद में पटियाला के रेवेन्यू मिनिस्टर बने और अंततः लाहौर जा बसे। तेजी एक मातृविहीन बालिका थीं। शुरू में कवि बच्चन से तेजी का विवाह खजानसिंह को पसंद नहीं आया था, लेकिन बाद में संबंध सामान्य हो गए।

परस्पर सम्मान की भावना

हरिवंश राय बच्‍चन तेजी बच्चन का बहुत ख़्याल रखते थे और बेहद सम्‍मान भी करते थे। तेजी हरिवंश राय बच्‍चन को 'बच्‍चन' संबोधन से ही बुलाती थीं। हरिवंश राय बच्चन और तेजी बच्चन अपने युवा दिनों में साहित्य सम्मेलनों में बहुत मशहूर हुआ करते थे। दोनों की आवाज़ और कवि बच्चन की दिल को छू लेने वाली कविताएँ लोगों को मंत्रमुग्ध कर देती थीं।

दिल्ली प्रवास

तेजी बच्चन दमे की मरीज़ थीं और मुम्बई का नमी वाला वातावरण उन्हें कभी रास नहीं आया। इसलिए वे मुम्बई की बजाय दिल्ली में रहना पंसद करती थी। अमिताभ के फ़िल्म उद्योग में पैर जमाने के शुरुआती दौर में वे हरिवंश राय बच्‍चन के साथ दिल्‍ली में ही रहती थीं, बाकी परिवार मुम्‍बई में रहता था।

धार्मिक स्वभाव

तेजी बच्चन भी बच्‍चन जी की ही तरह भगवान श्रीराम और हनुमान की परम भक्‍त थीं।

गायन व अभिनय

तेजी एक अभिनेत्री भी थीं। वे कॉलेज के दिनों में नाटकों में भाग लेती थीं। तेजी बच्चन अच्छी गायिका भी थीं और उन्होंने कई बार मंच पर अपनी कला का जौहर भी दिखाया था। यही नहीं विवाह के बाद भी वे इलाहाबाद और दिल्ली में कई बार मंचों पर अभिनय के लिए उतरी थीं। हरिवंश राय बच्चन ने 'शेक्सपीयर' के कई नाटकों का अनुवाद किया था और तेजी बच्चन ने कई नाटकों में अभिनय भी किया। अमिताभ में अभिनय के संस्कार अपनी माँ से ही आए।

सामाजिक कार्यकर्ता

श्रीमती बच्चन इलाहाबाद में एक सामाजिक कार्यकर्ता और रंगकर्मी के रुप में जानी जाती थीं। वह आनंद भवन भी आया-जाया करती थीं और वहीं उनकी मुलाकात पंडित जवाहर लाल नेहरू से हुई थी। श्रीमती बच्चन ने ही हरिवंश राय बच्चन का परिचय नेहरु जी से कराया था।[1]

नेहरू परिवार से सम्बंध

अपने समय में कवि हरिवंश राय बच्चन और तेजी बच्चन की जोड़ी भारत की चर्चित और लोकप्रिय जोड़ी मानी जाती थी। हरिवंशराय बच्चन और तेजी बच्चन जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी के बेहद क़रीब माने जाते थे। सोनिया गाँधी जब राजीव गाँधी से शादी करके पहली बार भारत आईं तो स्वर्गीय इन्दिरा गाँधी ने उन्हें साड़ी पहनने से लेकर भारतीय संस्कारों, भारतीय परंपराओं और तीज त्यौहारों का महत्व जानने व समझने के लिए तेजी बच्चन के पास ही भेजा था।[2]

पुत्र प्रेम

बिग बी 26 जुलाई, 1982 को 'कुली' फ़िल्म की शूटिंग के दौरान बुरी तरह जख्मी हो गए थे। दुनिया भर में उनके स्वस्थ होने की दुआएँ की गई थीं। यहाँ तक कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी भी विदेश दौरे को रद्द कर अमिताभ को देखने अस्पताल पहुँची थीं। लेकिन बहुत कम लोगों को यह तथ्य मालूम है कि अमिताभ की माँ तेजी बच्चन के कहने पर महानायक की इस फ़िल्म की स्क्रिप्ट में क्लाइमेक्स ही चेंज कर दिया गया था। 'कुली' की मूल स्क्रिप्ट में अंत में अमिताभ बच्चन अभिनीत किरदार को मर जाना था, लेकिन तेजी बच्चन के अनुरोध पर यह सीन बदल दिया गया। इससे पहले अमिताभ कई फ़िल्मों के अंत में मरते हुए दिखाए गए थे, लेकिन 'कुली' में तेजी बच्चन उन्हें मरते हुए नहीं देखना चाहती थीं, क्योंकि इसी फ़िल्म की शूटिंग के दौरान उनके बेटे को नया जीवन मिला था। उन्होंने कुली के निर्देशक मनमोहन देसाई से आग्रह किया कि फ़िल्म के अंत में अमिताभ को मरते हुए न दिखाया जाए।

पुष्पा भारती के विचार

विगत पचास साल से इलाहाबाद से लेकर मुंबई तक बच्चन परिवार पारिवारिक मित्र और तेजी बच्चन के हर सुख-दुःख में साथ रही पुष्पा भारती ने कहा कि- "इलाहाबाद में हमारे परिवार के बीच साहित्यिक नाते थे, लेकिन मुंबई आने के बाद हम पारिवारिक मित्र हो गए।" उन्होंने कहा कि तेजी मनोविज्ञान की प्रोफेसर थी और साहित्य में उनकी गहरी रुचि थी और वे युवा साहित्यकारों को प्रोत्साहित करती थीं। उनके लिखे पत्र आज भी मेरे पास रखे हैं। उन्हें पढ़ने से पता चलता है कि उनकी भाषा में अद्‍भुत लालित्य था।[2] स्व. धर्मवीर भारती की पत्‍‌नी पुष्पा भारती ने हरिवंश राय बच्चन एवं तेजी बच्चन की 1941 में हुई पहली मुलाकात एवं उसके बाद तेजी बच्चन की सुंदरता से जुड़े अनेक किस्से सुनाए। पुष्पा भारती के अनुसार, जब सरोजिनी नायडू ने पहली बार बच्चन दंपती को पंडित जवाहरलाल नेहरू से मिलवाया तो उनका परिचय यह कहकर करवाया- 'नेहरू जी, ये हैं देश के एक महान् कवि हरिवंशराय बच्चन एवं ये हैं इनकी कविता।'[3]

ख़राब स्वास्थ्य

वर्ष 2004 से तेजी बच्चन ने ज़्यादा समय बीमारी की वजह से अस्पतालों में ही गुज़ारा। ख़राब स्वास्थ्य की वजह से वे अप्रैल में अपने पौत्र अभिषेक बच्चन और ऐश्वर्या की शादी में भी शामिल नहीं हो सकीं थीं। शादी के तुरंत बाद नवविवाहित जोड़े ने अस्पताल जाकर अपनी दादी से आशीर्वाद लिया था।[4]

प्रियंका गाँधी के विचार

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की बेटी प्रियंका गांधी ने अपनी अच्छी हिंदी के लिए सुपरस्टार अमिताभ बच्चन की माँ तेजी बच्चन को श्रेय दिया है। प्रियंका ने ‘एनडीटीवी’ के साथ एक साक्षात्कार में अपनी अच्छी हिंदी के बारे में कहा- "यह सब तेजी बच्चन के कारण है"। प्रियंका गांधी ने आगे कहा- "बचपन में मैंने तेजी बच्चन के साथ बहुत समय बिताया है। वह मुझे हरिवंश राय बच्चन की कविताएँ और पुस्तकें पढ़ने को देती थीं। वाकई में उन्होंने ही मेरे भीतर हिंदी साहित्य के प्रति रुचि जगाई है"।[5]

निधन

21 दिसम्बर, 2007 शुक्रवार को लंबी बीमारी के बाद मुंबई के 'लीलावती अस्पताल' में तेजी बच्चन का देहांत हो गया। वे 93 वर्ष की थीं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. श्रीमती तेजी बच्‍चन का निधन (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 16 दिसम्बर, 2011।
  2. 2.0 2.1 तेजी बच्चन-संस्कार और शालीनता की प्रतिमूर्ति (हिंदी) हिन्दी मीडिया डॉट इन। अभिगमन तिथि: 16 दिसम्बर, 2011।
  3. तेजी बच्चन की सुंदरता का बखान सुन ऐश्वर्या थीं दंग (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 16 दिसम्बर, 2011।
  4. अमिताभ की माँ तेजी बच्चन का निधन (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 16 दिसम्बर, 2011।
  5. तेजी बच्चन ने सिखाई है हिंदी: प्रियंका गांधी (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 16 दिसम्बर, 2011।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=तेजी_बच्चन&oldid=634464" से लिया गया