Makhanchor.jpg भारतकोश की ओर से आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ Makhanchor.jpg

त्रिजुगीनारायण  

त्रिजुगीनारायण गढ़वाल ज़िला, उत्तराखंड में केदारनाथ से बदरीनाथ जाने वाले मार्ग पर स्थित पुराण प्रसिद्ध तीर्थ है। यह समुद्रतल से साढ़े नौ फुट की ऊँचाई पर स्थित है।

  • त्रिजुगीनारायण में ब्रह्मकुंड, विष्णुकुंड, रुद्रकुंड और सरस्वतीकुंड नामक चार सरोवर हैं।
  • इन सरोवरों के पास ही नारायण का एक मंदिर है।
  • एक स्थान पर निरंतर अग्नि प्रज्वलित रहती है। किंवदंती है कि यहीं शिव-पार्वती का विवाह संस्कार सम्पन्न हुआ था।
  • कुमारसंभव[1] में शिव-पार्वती के विवाह में अग्नि को साक्षी रूप में माना है-
'वधूं द्विज: प्राह तदैव वत्से वह्लिर्विवाहं प्रतिकर्मसाक्षी, शिवेन भर्त्रा सह धर्मचर्या कायां त्वयामुक्तविचारयेति'
  • संभवत: इसी पुण्य अग्नि के संस्मारक के रूप में इस स्थान पर सदा अग्नि प्रज्वलित रखी जाती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 416 |

  1. कुमारसंभव 7, 83

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=त्रिजुगीनारायण&oldid=274581" से लिया गया