Makhanchor.jpg भारतकोश की ओर से आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ Makhanchor.jpg

बदरी  

बदरी गंगा नदी के तट पर हिमालय की गोद में स्थित एक अत्यन्त पवित्र तीर्थस्थल है। गंगा तट पर नर और नारायण का आश्रम और तीर्थस्थल होने से इसे 'बद्रिका' या 'बद्रीधाम' भी कहा गया है।

  • यहाँ अमृत तुल्य शीतल जल वाली गंगा उष्ण जल वाली धारा बन जाती है और स्वर्ण बालुका बहाकर लाती है।
  • इससे आगे मेरु, कैलास और गंधमादन पर्वत हैं।
  • वनवास काल में गंगाद्वार (हरिद्वार) को पार करते हुए पांडवों ने अनेक रमणीक हिमाच्छादित शैल शिखर देखे थे।
  • विशाल बेर वृक्षों से आवृत्त बदरी के दर्शन किए, जो हिमवत की गोद में स्थित हैं।
  • यहाँ से वे गंधमादन पर पहुँचे थे।
  • स्वर्ग से अर्जुन आगमन के अनंतर गंधमादन से लौटकर यहाँ एक माह तक वास किया।[1]

इन्हें भी देखें: बद्री नाथ जी की आरती एवं बद्रीनाथ


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय संस्कृति कोश, भाग-2 |प्रकाशक: यूनिवर्सिटी पब्लिकेशन, नई दिल्ली-110002 |संपादन: प्रोफ़ेसर देवेन्द्र मिश्र |पृष्ठ संख्या: 525 |

  1. महाभारत, आदिपर्व, अध्याय 36, वनपर्व, अध्याय 40, 47, 90, 115, 141, 156.

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बदरी&oldid=266421" से लिया गया