दशावतारचरित  

दशावतारचरित कश्मीर के महाकवि क्षेमेन्द्र द्वारा लिखा गया महाकाव्य है।

  • 'दशावतारचरित' क्षेमेन्द्र का उदात्त महाकाव्य है, जिसमें भगवान विष्णु के दसों अवतारों का बड़ा ही रमणीय तथा प्रांजल, सरस एवं मुंजुल काव्यात्मक वर्णन किया गया है।
  • औचित्य-विचार-चर्चा में क्षेमेन्द्र ने औचित्य को काव्य का मूलभूत तत्व माना है तथा उसकी प्रकृष्ट व्यापकता काव्य प्रत्येक अंग में दिखलाई है।
  • क्षेमेन्द्र के ग्रंथ 'समयमातृका' का रचना काल 1050 ई. तथा इनके अंतिम ग्रंथ 'दशावतारचरित' का निर्माण काल इनके ही लेखानुसार 1066 ई. है।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दशावतारचरित&oldid=640962" से लिया गया