मणिमेखलै  

  • मणिमेखलै महाकाव्य की रचना मदुरा के एक बौद्ध धर्म को मानने वाले व्यापारी 'सीतलै सत्तनार' ने की थी।
  • इस महाकाव्य की रचना 'शिलप्पादिकारम' के बाद की गयी।
  • ऐसी मान्यता है कि, जहाँ पर 'शिलप्पादिकारम' की कहानी ख़त्म होती है, वहीं से 'मणिमेखलै' की कहानी प्रारम्भ होती है।
  • 'सत्तनार' कृत इस महाकाव्य की नायिका ‘मणिमेखलै’, 'शिलप्पादिकारम' के नायक 'कोवलन्' की दूसरी पत्नी 'माधवी वेश्या' की पुत्री थी।
  • 'मणिमेखलै' साक्षात् देवी के समान जनता के लिए आम-सुखों का त्याग करती है।
  • इस महाकाव्य में मानवीय संवेदनाओं को झलकाते हुए मानवता को महत्त्वपूर्ण स्थान दिया गया है।
  • 'मणिमैखलै' से सम्बन्धित कुछ परवर्ती रचनाओं में महत्त्वपूर्ण है - 'भारतीदासन् कृत ‘मणिमेखलै वेण्वा’।
  • इसमें 'मणिमेखलै' एवं 'माधवी' के चरित्र को उभारा गया है।
  • 'मणिमेखलै' में एक नर्तकी के बौद्ध भिक्षुणी में परिवर्तित होने की कथा मिलती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मणिमेखलै&oldid=470014" से लिया गया