पद्मगुप्त  

पद्मगुप्त धारा नगरी के सिंधुराज के ज्येष्ठ भ्राता और राजा मुंज (974-998) के आश्रित कवि थे। इनका समय ई. 11वीं शती के लगभग था। पद्मगुप्त के पिता का नाम मृगांकगुप्त था। इन्हें ‘परिमल कालिदास’ भी कहा गया है। धनिक व मम्मट ने इन्हें उद्धृत किया है।

  • पद्मगुप्त ने संस्कृत साहित्य के सर्वप्रथम ऐतिहासिक महाकाव्य की रचना की थी।
  • इस महाकाव्य का नाम ‘नवसाहसाङ्कचरित’ है, और यह इतिहास एवं काव्य दोनों की दृष्टियों से मान्यता प्राप्त है।
  • ‘नवसाहसाङ्कचरित’ महाकाव्य के 18 सर्ग हैं, और इसमें सिंधुराज के पूर्वजों अर्थात् परमार वंश के राजाओं का वर्णन प्राप्त होता है।
  • पद्मगुप्त की इस कृति पर महाकवि कालिदास के काव्य का प्रभाव परिलक्षित होता है। कालिदास के अनुकरण पर इस ग्रंथ की रचना भी वैदर्भी शैली पर हुई है।
  • इसकी रचना सन् 1005 के आस-पास हुई थी। इसकी अलंकृत एवं हृदयावर्जक है।
  • महाकाव्य का हिन्दी अनुवाद सहित प्रकाशन 'चौखम्बा-विद्याभवन' से हो चुका है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय संस्कृति कोश, भाग-2 |प्रकाशक: यूनिवर्सिटी पब्लिकेशन, नई दिल्ली-110002 |संपादन: प्रोफ़ेसर देवेन्द्र मिश्र |पृष्ठ संख्या: 468 |


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पद्मगुप्त&oldid=299840" से लिया गया