नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो  

नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो की आरंभिक तौर पर स्थापना 'पांडे समिति' की सिफ़ारिशों पर जनवरी, 1978 में नागर विमानन महानिदेशालय में एक प्रकोष्ठा के रूप में हुई थी। 1 अप्रैल, 1997 को नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो की पुन:स्थापना नागर विमानन मंत्रालय में एक स्वतंत्र विभाग के रूप में हुई थी।

मुख्यालय तथा क्षेत्रीय कार्यालय

नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो के मुख्य उत्तरदायित्व में भारत में अंतरराष्ट्रीय तथा घरेलू हवाईअड्डों पर नागरिक उड़ानों के संबंध में मानकों तथा उपायों का निर्धारित करना शामिल है। नगर विमानन सुरक्षा ब्यूरो का मुख्य कार्यालय ए-विंग, I-III तल, जनपथ भवन, नई दिल्ली, 110001 में स्थित है। इसके चार क्षेत्रीय कार्यालय अंतरराष्ट्रीरय हवाई अडडों यथा दिल्ली, मुम्बई, कोलकाता तथा चेन्नई में स्थित है।

दायित्व

  1. हवाई अड्डा संचालकों, एयरलाइंस ऑपरेटरों के लिए आईसीएओ के शिकागो सम्मेलन के लिए अनुलग्नक 17 के अनुसार उड्डयन सुरक्षा मानक और उनकी सुरक्षा एजेंसियों ए वी एस ई सी उपायों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है।
  2. सुरक्षा नियमों तथा विनियमों की मॉनीटरिंग और सुरक्षा आवश्यकताओं के लिए सर्वेक्षण करना।
  3. यह सुनिश्चित करना की सुरक्षा नियंत्रणों को लागू करने वाले व्यक्ति उपयुक्तत रूप से प्रशिक्षित हों तथा अपने कर्तव्यों के निष्पादन के लिए अपेक्षित सभी सक्षमताएं ग्रहण किए हुए हों।
  4. विमानन सुरक्षा विषयों का नियोजन तथा समन्वेय।
  5. सुरक्षा कार्मिकों की प्रवीणता कौशल तथा सतर्कता की जांच करने के लिए औचक/डमी जांचें करना।
  6. आकस्मिक जांचों की कुशलता तथा विभिन्न एजेंसियों की प्रचा‍लनिक तत्परता की जांच करने के लिए मॉक अभ्यास।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नागर_विमानन_सुरक्षा_ब्यूरो&oldid=626018" से लिया गया