फ़िरोजशाह बहमनी  

फ़िरोजशाह बहमनी, बहमनी वंश का आठवाँ सुल्तान था। इतिहासकार फ़रिश्ता के अनुसार उसका शासन काल बहमनी वंश का सबसे अधिक गौरवशाली काल था। फ़िरोजशाह ने लगभग हर वर्ष पड़ोसी हिन्दू राज्य विजयनगर पर हमले किये।

  • 1406 ई. में तो वह वस्तुत: नगर में घुस गया और विजयनगर के राजा देवराय प्रथम (1406-12) को संधि करने के बदले में अपनी लड़की देने को मजबूर किया।
  • फ़िरोजशाह को 1420 ई. में कृष्णा नदी के उत्तर पंगल के युद्ध में हिन्दुओं से करारी मात खानी पड़ी और वह बिल्कुल टूटा हुआ घर लौटा।
  • उसने अपने जीवन के शेष दो वर्ष इबादत में बिताये और प्रशासन को तुर्की ग़ुलामों के हाथों में छोड़ दिया।
  • फ़िरोजशाह इमारतों का बहुत शौक़ीन था। उसने अपनी राजधानी गुलबर्गा को अनेक भव्य इमारतों से अंलकृत किया, जिनमें एक मस्जिद भी है, जिसका निर्माण उसने स्पेन की कुर्तुबा (कारडोवा) मस्जिद की शैली पर कराया था।
  • उसने राजधानी के दक्षिण में भीमा नदी के तट पर फ़िरोज़ाबाद नगर में विशाल प्राचीरयुक्त राज-प्रासाद भी बनवाया।



बहमनी वंश
Arrow-left.png पूर्वाधिकारी
शम्सुद्दीन बहमनी
फ़िरोजशाह बहमनी उत्तराधिकारी
अहमदशाह बहमनी
Arrow-right.png


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=फ़िरोजशाह_बहमनी&oldid=492464" से लिया गया