फ़िरोज़ाबाद  

फ़िरोज़ाबाद मुग़ल काल से बसा भारत के उत्तर प्रदेश प्रान्त का एक ज़िला है। यह शहर चूड़ियों के निर्माण के लिये मशहूर है! यही कारण है कि इसे 'सुहाग की नगरी' भी कहा जाता है। फ़िरोज़ाबाद आगरा से 40 किलोमीटर और राजधानी दिल्ली से 250 किलोमीटर की दूरी पर पूरब की तरफ़ स्थित है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ भी यहाँ से लगभग 250 किलोमीटर पूरब की ओर ही है। फिरोज़ाबाद ज़िले के अन्तर्गत दो कस्बे टूंडला और शिकोहाबाद आते हैं। टूंडला पश्चिम तथा शिकोहाबाद शहर के पूरब में स्थित हैं।

इतिहास

फ़िरोज़ाबाद की स्थापना सुल्तान फ़िरोज़शाह तुग़लक ने (1351-1388 ई.) में अपनी राजधानी दिल्ली से दस मील की दूरी पर की थी। यही नाम सुल्तान ने 1353-1354 ई. में बंगाल की चढ़ाई के दौरान वहाँ के 'पहुँचा नगर' को भी दिया था। सुल्तान फ़िरोज़ कट्टर मुसलमान था और उसने देश का प्रशासन इस्लाम के सिद्धान्तों के अनुरूप चलाने का प्रयास किया। इसके फलस्वरूप हिन्दुओं को, जो बहुमत में थे, भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। उनके धार्मिक उत्सवों, सार्वजनिक सभाओं और पूजा-पाठ आदि पर प्रतिबंध लगाया गया।

इस धार्मिक कट्टरता के बावजूद भी फ़िरोज़ उदार शासक था। उसने अनेक कष्टदायी और अनुचित करों को समाप्त किया, यद्यपि ब्राह्मणों पर भी जजिया कर थोपा गया, जो कि अभी तक इससे मुक्त थे। उसने सिंचाई के कार्य को प्रोत्साहन दिया, जौनपुर सहित कई नगरों की स्थापना की, अनेक बाग़-बग़ीचों को लगाया और वहाँ पर तमाम मस्ज़िदों का निर्माण कराया। उसने अंग-भंग जैसे कठोर दंडों को समाप्त किया और एक धर्मार्थ चिकित्सालय की स्थापना की। जहाँ रोगियों को दवाएँ और भोजन मुफ़्त दिया जाता था। उसका शासन कठोर नहीं था। चीज़ों की क़ीमत कम थी और लोग शान्ति से रहते थे।

उद्योग

फ़िरोज़ाबाद में भारत की सबसे अधिक काँच की चूड़ियाँ, सजावट की काँच की वस्तुएँ, वैज्ञानिक उपकरण, बल्ब आदि बनाये जाते हैं। यहाँ पर चूड़ियों का व्यवसाय मुख्यत: होता है। यहाँ पर रंग-बिरंगी चूड़ियों की दुकानें चारों ओर दिखाई देती हैं। घरों के अन्दर महिलाएँ भी चूडियों पर पॉलिश लगाकर रोज़गार अर्जित कर लेती हैं। भारत में काँच का सर्वाधिक सामान फ़िरोज़ाबाद नामक छोटे से शहर में बनाया जाता है। इस शहर के अधिकांश लोग काँच के किसी न किसी सामान के निर्माण से जुड़े उद्यम में लगे हैं। रंगीन काँच को गलाने के बाद उसे खींचकर तार के समान बनाया जाता है और एक बेलनाकार ढाँचे पर कुंडली के आकार में लपेटा जाता है। स्प्रिंग के समान दिखने वाली इस संरचना को काट कर खुले सिरों वाली चूड़ियाँ तैयार कर ली जातीं हैं। अब इन खुले सिरों वाली चूड़ियों के विधिपूर्वक न सिर्फ़ ये सिरे जोड़े जाते हैं, बल्कि चूड़ियाँ एकरूप भी की जाती हैं, ताकि जुड़े सिरों पर काँच का कोई टुकड़ा निकला न रह जाये। यह एक धीमी प्रक्रिया है, जिसमें काँच को गर्म व ठण्डा करना पड़ता है।

परिवहन

फ़िरोज़ाबाद आगरा और इटावा के बीच प्रमुख रेलवे जंक्शन है। इसके अतिरिक्त यहाँ बसें, ऑटो-रिक्शा तथा टैक्सी आदि भी परिवहन के प्रमुख साधन हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=फ़िरोज़ाबाद&oldid=269458" से लिया गया