मस्की  

मस्की या 'मास्की' आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक के रायचूर का एक छोटा-सा गाँव है। यहाँ से एक पुरातात्त्विक शिलालेख साक्ष्य मिला है, जो अशोक की धम्म यात्रा का साक्षी है।

  • मस्की अपने ही नाम की एक नदी 'मस्की' के तट पर स्थित है।
  • यह नदी भारत की मुख्य नदियों में से एक तुंगभद्रा की सहायक नदी है।
  • सम्राट अशोक के प्रथम लघु शिलालेख की एक प्रति 1919 ई. में मस्की में मिली थी।
  • अशोक का मस्की शिलालेख इसलिए महत्त्वपूर्ण है कि यह एकमात्र शिलालेख है, जिसमें दूसरे शिलालेखों की भाँति उसका नाम 'देवानांप्रिय' के साथ-साथ अशोक भी दिया हुआ है।
  • इस शिलालेख से प्रमाणित हो जाता है कि राजा देवानांप्रिय प्रियदर्शी तीसरा मौर्य सम्राट अशोक था।
  • जॉर्ज टर्नोर ने 1837 ई. में केवल अनुमान से प्रियदर्शी की पहचान अशोक से की थी।

इन्हें भी देखें: अशोक के शिलालेख


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मस्की&oldid=233355" से लिया गया