होमनाबाद  

होमनाबाद 19वीं शती के पूर्वाध में दाक्षिणात्य संत मानिकप्रभु का निवास्थान माना जाता है।

  • होमनाबाद मैसूर में है।
  • उन्होंनें सब धर्मों की एकता पर बहुत जोर दिया था और उन के शिष्य सभी मतों तथा जातियों में पाये जाते थे।
  • मानिकप्रभु का मठ होमनाबाद में आज भी देखा जा सकता है।
  • यहां उनके शिष्य संत की परम्परा को बनाए हुए हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=होमनाबाद&oldid=302766" से लिया गया