Makhanchor.jpg भारतकोश की ओर से आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ Makhanchor.jpg

मूल नक्षत्र  

मूल नक्षत्र के चारों चरण धनु राशि में आते हैं। यह ये ये भा भी के नाम से जाना जाता है।

अर्थ - जड़
देव - निरित्ती

  • नक्षत्र का स्वामी केतु है। वहीं राशि स्वामी गुरु है।
  • मूल में राक्षसों का व्रत और पूजन किया जाता है।
  • मूल नक्षत्र के देवता केतु को माना जाता है|
  • साल के पेड़ को मूल नक्षत्र का प्रतीक माना जाता है और मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग साल वृक्ष की पूजा करते है।
  • इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग अपने घर के ख़ाली हिस्से में साल के पेड को लगाते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मूल_नक्षत्र&oldid=328791" से लिया गया