सेमी-कण्‍डक्टर प्रयोगशाला  

सेमी-कण्‍डक्टर प्रयोगशाला अथवा एससीएल, जो पहले सेमी कण्‍डक्टर कॉम्प्लेक्स लिमिटेड के रूप में जाना जाता था, संप्रति अंतरिक्ष विभाग के अंतर्गत एक सोसाइटी है जिसका मुख्य उद्देश्य अर्द्ध-चालक प्रौद्योगिकी, सूक्ष्म-वैद्युत-यांत्रिक प्रणाली (एमईएमएस) के क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास को प्रारंभ करने, सहायता प्रदान करने, दिशानिर्देशन एवं समन्वयन तथा वर्तमान 6” वेफ़र संविरचन में अर्द्ध-चालक संसाधन से संबंधित प्रौद्योगिकियों को संसाधित करना है।

  • विभिन्न वर्षों के दौरान एससीएल ने कई महत्त्वपूर्ण वीएलएसआई का विकास एवं उनकी आपूर्ति की है, जिनमें से अधिकांश औद्योगिक एवं अंतरिक्ष क्षेत्रों में उच्च विश्वसनीयता वाले अनुप्रयोगों के लिए उपयोग विशिष्ट समेकित परिपथ (एएसआईसी) रहे हैं।
  • 0.25 माइक्रॉन या बेहतर प्रौद्योगिकी में युक्तियों के संविरचन करने के लिए सुविधाओं के उन्नयन के लिए क़दम उठाये गए हैं।
  • एससीएल अर्द्ध-चालक संविरचन के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी संबंधी उत्कृष्टता के लिए सतत प्रयासरत है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सेमी-कण्‍डक्टर_प्रयोगशाला&oldid=360288" से लिया गया