हिन्दी के विकास में भोजपुरी का योगदान -डॉ. उदयनारायण तिवारी  

Icon-edit.gif यह लेख स्वतंत्र लेखन श्रेणी का लेख है। इस लेख में प्रयुक्त सामग्री, जैसे कि तथ्य, आँकड़े, विचार, चित्र आदि का, संपूर्ण उत्तरदायित्व इस लेख के लेखक/लेखकों का है भारतकोश का नहीं।
लेखक- डॉ. उदयनारायण तिवारी

          वास्तव में व्यक्ति-बोली तथा बोली का समाजीकरण ही भाषा है। भाषा के भी कई स्तर होते हैं। इनमें से एक को साधु तथा मानक की संज्ञा प्राप्त होती है। यही भाषा शिष्टजनों द्वारा व्यवहृत होती है। प्राचीनकाल में मानक रूप संस्कृत का व्यवहार संपूर्ण भारत में था किंतु इसमें आर्यावर्त्त तथा मध्यदेश की भाषा ही शिष्ट भाषा के रूप में व्यवहृत होती थी। आज उसी मध्यदेश की भाषा हिन्दी संपूर्ण देश की राष्ट्रभाषा बन गई है। एक विशाल भू-भाग की भाषा बन जाने के कारण हिन्दी में स्वाभाविक रीति से बंगला, गुजराती, मराठी, उड़िया, असमिया, तमिल, तेलुगु, कन्नड़ एवं मलयालम के अनुवाद रूप में मुहावरे एवं बहुप्रचलित शब्द अपने आप आ जाएँगे। आज अंग्रेजी के अनेक मुहावरों के अनुवाद हिन्दी में आ गए हैं। प्रेमचंद जैसे सशक्त लेखक ने एक स्थान पर लिखा है-'मैं फावड़े को फावड़ा कहूँगा।' यह अंग्रेजी के मुहावरों 'आइ विल काल ए स्पेड ए स्पेड' का स्पष्ट अनुवाद है। उर्दू-फ़ारसी के मुहावरे न मालूम कितने दिनों से हिन्दी में आ रहे हैं। अब पहाड़ी, राजस्थानी, मैथिली, मगही एवं भोजपुरी के समर्थ लेखकों द्वारा वहाँ के स्थानीय शब्द एवं मुहावरे प्रयोग में आएँगे और उन्हें रोका नहीं जा सकता। राहुल सांकृत्यायन एवं रामवृक्ष बेनीपुरी जैसे लेखकों ने पोरषा, अगवाह, लाल-भभुक्का, तियन, मुरेठा एवं भोर जैसे स्थानीय एवं आंचलिक शब्दों का प्रयोग अपनी कृतियों में किया है।
          इसी क्रम में डॉ. कृष्णविहारी मिश्र का नामोल्लेख यहाँ आवश्यक है। आप पूर्वाचल स्थित बलिया संभाग के बलिहार गाँव के निवासी हैं। आपके गाँव के पास गंगा नदी बड़े वेग से प्रवाहित होती है। आप की कृति 'बेहया का जंगल' आपके ग्यारह ललित निबंधों का संग्रह है। 'बेहया' एक प्रकार की झाड़ीदार वनस्पति है जो पूर्वांलय के गाँवों में मिलती है। 'हया' अरबी-फ़ारसी का शब्द है जिसका अर्थ है, 'अज्जा'। 'बेहया' का अर्थ है, 'अज्जारहित', 'निर्लज्ज' या 'बेशर्म'। चूँकि यह वनस्पति थोड़े ही समय में चारों ओर परम कर फैल जाती है अत: उसे 'बेहया' नाम से अभिहित किया जाता है।

          डॉ. मिश्र की यह कृति नवंबर सन् 1981ई. में कलकत्ते से प्रकाशित हुई है। डॉ. मिश्र के इन ललित निबंधों की यह विशेषता है कि इसमें आपने खुलकर खाँटी भोजपुरी संज्ञा, नाम धातु, क्रियापदों एवं कृदंतों का प्रयोग किया है। 'भोजपुरी' पश्चिमी मागधी अपभ्रंश से प्रसूत भाषा है जो पश्चिमी मागधी अपभ्रंश से प्रसूत भाषा है जो पश्चिमी बिहार तथा उत्तर प्रदेश की दो कमिश्नरियों- गोरखपुर एवं वाराणसी में प्रचलित है। इसके बोलने वालों की संख्या साढ़े चार करोड़ है। यह इस अर्थ में अंतर्राष्ट्रीय भाषा है कि भारत के बाहर यह मारिशस, ट्रिनीडाड, गयाना, सूरीनाम एवं जमैदा में भी बोली जाती है। भोजपुरी-क्षेत्र में शिक्षा की माध्यम भाषा, हिन्दी है किंतु घरों में भोजपुरी ही व्यवहृत होती है। डॉ. मिश्र ने अपने इन निबंधों में साधु हिन्दी का भी प्रयोग किया है। किंतु बीच बीच में आपने खांटी भोजपुरी शब्दों का भी प्रयोग किया है। नीचे डॉ. मिश्र द्वारा प्रयुक्त भोजपुरी शब्द संदर्भ सहित दिए जाते हैं ताकि उनके आशय स्पष्ट हो सके। भोजपुरी शब्दों का साधु हिन्दी मे अर्थ देना कठिन काम है किंतु उनकी व्याख्या देने का मैंंने यहां प्रयत्न किया है:
          ‘कटान’ और ‘ढाही’ ये दोनों शब्द भोजपुरी के हैं। जिन क्षत्रों में गंगा की बाढ़ आती है वहां गांव के गांव कट कर गंगा में बह जाते हैं। इसी प्राकृतिक क्रिया-व्यापार से कटान शब्द का निर्माण हुआ है। इसी प्रकार गंगा के तट की जमीनें बाढ़ के दिनों में धीरे धीरे ढहती जातीं हैं और खेत के खेत ढाही की चपेट में आ जाते हैं। इसे भोजपुरी प्रदेश में ढाही कहते हैं।
          एक स्थान पर लेखक ने ढाही का प्रयोग व्यंजनात्मक रूप में किया है। आप लिखते हैं -‘मूल्यों में भंकर ढाही शुरू हो गई है’ लेकिन इस गिरावट शब्द से ढाही का अर्थ स्पष्ट नहीं होता क्योंकि गिरावट अमूर्त व्यापार है। जबकि ढाही मूर्त एवं प्रत्यक्ष व्यापार है।
          बेजाँय शब्द फारसी ‘बेजा’ से बना है। उदाहरण है- ‘महाराजा जहां पाप की बाढ़ में सारा जवार डूब गया है वहां गंगा जी का इतना उब होना बेजाँय क्या है?

टोकना- यह शब्द भोजपुरी है जिसका अर्थ है यकायक बोल पड़ना। उदाहरण- एक अधेड़ यात्री ने टोका।
भाखना- बुरे भाव से कहना। उदाहरण- पंडित जी यही भाखते हैं।
लहकना- लहलहा उठना। उदाहरण- यह बिना तप और साधना के लहकने वाली वनस्पति है।
जवार - इलाक़ा। इस संदर्भ में निम्नलिखित तीन मुहावरे भी दृष्टव्य हैं।
1-आंख की पुतली जुडा़ना (ठंडी करना)
2-दिन भर की खटनी (परिश्रम) के बाद घर पहुंचना।
3- आगे पीछे ताकना (देखना)।

बात करने के अर्थ में नाम धातु का प्रयोग बतियाना। उदाहरण- उनसे बतियाने मे सुख मिलता है।
दो और मुहावरे उल्लेखनीय हैं।
1- पसेरी भर का मुंह लटकाये रहते हैं। हिन्दी में इसका अनुवाद होगा- अपना भारी भरकम मुंह लटकाये रहते हैं।
2- मुंह विराना - का अर्थ है चिढ़ाना लेकिन चिढ़ाना शब्द क्रिया रूप है।

तपना - अर्थ है प्रभाव, बढ़ना उदाहरण- ‘जस जस कलि (कलियुग) तप रहा है।
लंगोटा का पक्का - पूर्ण ब्रह्मचर्य, उदाहरण- ‘पहले के लोग लंगोटे के पक्के होते थे।
भरभराना- अर्थ है फड़फड़ाना। उदाहरण- ‘कप्तान साहब की सफेद दाड़ी भरभरा जाती है।’
खेत पर चढ़ जाना - अर्थ है, कब्जा कर लेना। उदाहरण- वह लाला वाले खेत पर अकेले चढ़ गया था।
कुलबोरन लाग देह और जान के फेर में रहते हैं। कुल को डुबोने वाला प्राण के चक्कर में रहता है।

इसी संदर्भ में निम्नलिखित वाक्य भी दृष्टव्य है। ‘जब जइसन तब तइसन इहे ना बूझल से मरद् कइसन? हिन्दी: जब जैसा तब तैसा यह न समझे तो मर्द कैसा?
टाॅसी - सुरीलीतान। उनकी टाॅसी से सरहे गूंजती है और राह कटती है।
मुंह जाबना- मुंह बंद करना। जाब एक प्रकार की रस्सी से बना जाल होता है जिसे जानवर के मुंह पर लगाते हैं ताकि कुछ खा न सके। उनका मुंह जाबते हैं।
झांझार- जो घना न हो। तब सघन बारी में दापहर को डर लगता था, अब कितनी झांझर हो गई है।
अगोरना- रखवाली करना। दिनरात अगोरती रहती थी।
भकसावन - डरावना। मकान में चिरई का पूत नहीं है, बड़ा भकसावन लगता है।
मटकी मारना- आंखों से इशारा करना। लड़के मटकी मारते हैं।
बांव - वयर्थ। वह बांव नहीं जाएगा।
न रुचना- न पसन्द आना। रुखर भाषा लागों को रुचती नहीं है।
रुखर - रुक्ष कठोर। रुखर भाषा लोगों को रुचती नहीं है।
कलम रेहन रखना: कलम गिरवी रखना। ऐसा न होता तो बुद्धि के देवता राजसत्ता के सामने अपनी कलम रेहन रखकर सुखी बन जाते।
लुत्ती - चिंगारी। शायद राख के भीतर कोई लुत्ती मिल जाए।
अन्ते - अन्यत्र। गांव के मूल बाशिन्दे कहीं अन्ते चले गए।
अगराना - प्रसन्न होना। अगराकर मौसा हम लोगों का दांत, पीसते दौड़ते थे।
उतान - अभिमान करना। जहां उतान हुए कि गांव की नई आबोहवा शहर की राह पकड़ने को मजबूर कर देगी।
धकियाना - बाहर निकाल देना। उद्वव के ज्ञान गुमाान को धकिया दिया था।
हाथ भांजना- लड़ने को तैयार। उसके विरुद्ध हाथ भांजता रहता है।
मेहराना- ठंडा पड़ना। उदास बयार बही नहीं कि मेरा मन मेहरा जाता है।
यह उल्लेखनीय है कि भाषा में दो तत्व होते हैं
(1) व्यक्त विचार (कंटेंट)
(2) भाषा (अभिव्यक्ति)।
ये दोनों एक दूसरे से संयुक्त रहते हैं। व्यक्त विचारों को संवहन करने वाली भाषा ही होती है। भाषा ही सार्थक ध्वनियों के माध्यम से विचारों को श्रोता या पाठक तक पहुचाती है। विचारों को ग्रहण करना श्रोता या पाठक की भाषिक क्षमता पर निर्भर करता है।
          ऊपर डॉ. मिश्र के ललित निबंधों की भाषा का ससंदर्भ विश्लेषण किया गया है क्योेंकि संदर्भ के अभाव में भाषा के अर्थ का ज्ञान नहीं होता। मिश्र द्वारा प्रयुक्त ऊपर के भोजपुरी शब्दों, पदबंधों एवं मुहावरों को हिन्दी से परिचित भोजपुरी भाषी शत प्रतिशत समझ लेंगे किंतु खड़ी बोली (हिन्दुस्तानी), ब्रज, कन्नौजी एवं बुंदेलखंडी भाषियों को इन्हें समझनें मे कठिनाई होगी। इनका भाव भारतीय समुद्र (इंडियन ओशेन) के मरीशस, गयाना, त्रिनिडाड एवं जमैका द्वीपों के हिन्दी से परिचित भोजपुरी भाषी सहजरूप से हृदयंगम कर लेंगे किंतु पंजाब, दिल्ली, मेरठ, बुलन्दशहर, फ़र्रुख़ाबाद तथा कानपुर के निवासियों के लिये इन्हें पूर्णतयः समझना कठिन होगा। हिन्दीभाषियों के लिए भोजपुरी के ये सभी शब्द, मुहावरे एवं पदबंध तभी ग्राह्य होंगे जब हिन्दी समाज इन्हें पूर्णतयः स्वीकार कर लेगा।
          पड़ोस तथा भारत की अन्य भाषाओं से शब्द ग्रहण कर हिन्दी धीरे धीरे विशाल एवं विराट भाषा बन रही है। इसके लिए प्रत्येक वर्ष ‘प्रयोग वार्षिकी कोश’ के निर्माण की आवश्यकता है जिससे हिन्दी की एकरूपता में बाधा न उपस्थित हो।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

तृतीय विश्व हिन्दी सम्मेलन 1983
क्रमांक लेख का नाम लेखक
हिन्दी और सामासिक संस्कृति
1. हिन्दी साहित्य और सामासिक संस्कृति डॉ. कर्ण राजशेषगिरि राव
2. हिन्दी साहित्य में सामासिक संस्कृति की सर्जनात्मक अभिव्यक्ति प्रो. केसरीकुमार
3. हिन्दी साहित्य और सामासिक संस्कृति डॉ. चंद्रकांत बांदिवडेकर
4. हिन्दी की सामासिक एवं सांस्कृतिक एकता डॉ. जगदीश गुप्त
5. राजभाषा: कार्याचरण और सामासिक संस्कृति डॉ. एन.एस. दक्षिणामूर्ति
6. हिन्दी की अखिल भारतीयता का इतिहास प्रो. दिनेश्वर प्रसाद
7. हिन्दी साहित्य में सामासिक संस्कृति डॉ. मुंशीराम शर्मा
8. भारतीय व्यक्तित्व के संश्लेष की भाषा डॉ. रघुवंश
9. देश की सामासिक संस्कृति की अभिव्यक्ति में हिन्दी का योगदान डॉ. राजकिशोर पांडेय
10. सांस्कृतिक समन्वय की प्रक्रिया और हिन्दी साहित्य श्री राजेश्वर गंगवार
11. हिन्दी साहित्य में सामासिक संस्कृति के तत्त्व डॉ. शिवनंदन प्रसाद
12. हिन्दी:सामासिक संस्कृति की संवाहिका श्री शिवसागर मिश्र
13. भारत की सामासिक संस्कृृति और हिन्दी का विकास डॉ. हरदेव बाहरी
हिन्दी का विकासशील स्वरूप
14. हिन्दी का विकासशील स्वरूप डॉ. आनंदप्रकाश दीक्षित
15. हिन्दी के विकास में भोजपुरी का योगदान डॉ. उदयनारायण तिवारी
16. हिन्दी का विकासशील स्वरूप (शब्दावली के संदर्भ में) डॉ. कैलाशचंद्र भाटिया
17. मानक भाषा की संकल्पना और हिन्दी डॉ. कृष्णकुमार गोस्वामी
18. राजभाषा के रूप में हिन्दी का विकास, महत्त्व तथा प्रकाश की दिशाएँ श्री जयनारायण तिवारी
19. सांस्कृतिक भाषा के रूप में हिन्दी का विकास डॉ. त्रिलोचन पांडेय
20. हिन्दी का सरलीकरण आचार्य देवेंद्रनाथ शर्मा
21. प्रशासनिक हिन्दी का विकास डॉ. नारायणदत्त पालीवाल
22. जन की विकासशील भाषा हिन्दी श्री भागवत झा आज़ाद
23. भारत की भाषिक एकता: परंपरा और हिन्दी प्रो. माणिक गोविंद चतुर्वेदी
24. हिन्दी भाषा और राष्ट्रीय एकीकरण प्रो. रविन्द्रनाथ श्रीवास्तव
25. हिन्दी की संवैधानिक स्थिति और उसका विकासशील स्वरूप प्रो. विजयेन्द्र स्नातक
देवनागरी लिपि की भूमिका
26. राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संदर्भ में देवनागरी श्री जीवन नायक
27. देवनागरी प्रो. देवीशंकर द्विवेदी
28. हिन्दी में लेखन संबंधी एकरूपता की समस्या प्रो. प. बा. जैन
29. देवनागरी लिपि की भूमिका डॉ. बाबूराम सक्सेना
30. देवनागरी लिपि (कश्मीरी भाषा के संदर्भ में) डॉ. मोहनलाल सर
31. राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संदर्भ में देवनागरी लिपि पं. रामेश्वरदयाल दुबे
विदेशों में हिन्दी
32. विश्व की हिन्दी पत्र-पत्रिकाएँ डॉ. कामता कमलेश
33. विदेशों में हिन्दी:प्रचार-प्रसार और स्थिति के कुछ पहलू प्रो. प्रेमस्वरूप गुप्त
34. हिन्दी का एक अपनाया-सा क्षेत्र: संयुक्त राज्य डॉ. आर. एस. मेग्रेगर
35. हिन्दी भाषा की भूमिका : विश्व के संदर्भ में श्री राजेन्द्र अवस्थी
36. मारिशस का हिन्दी साहित्य डॉ. लता
37. हिन्दी की भावी अंतर्राष्ट्रीय भूमिका डॉ. ब्रजेश्वर वर्मा
38. अंतर्राष्ट्रीय संदर्भ में हिन्दी प्रो. सिद्धेश्वर प्रसाद
39. नेपाल में हिन्दी और हिन्दी साहित्य श्री सूर्यनाथ गोप
विविधा
40. तुलनात्मक भारतीय साहित्य एवं पद्धति विज्ञान का प्रश्न डॉ. इंद्रनाथ चौधुरी
41. भारत की भाषा समस्या और हिन्दी डॉ. कुमार विमल
42. भारत की राजभाषा नीति श्री कृष्णकुमार श्रीवास्तव
43. विदेश दूरसंचार सेवा श्री के.सी. कटियार
44. कश्मीर में हिन्दी : स्थिति और संभावनाएँ प्रो. चमनलाल सप्रू
45. भारत की राजभाषा नीति और उसका कार्यान्वयन श्री देवेंद्रचरण मिश्र
46. भाषायी समस्या : एक राष्ट्रीय समाधान श्री नर्मदेश्वर चतुर्वेदी
47. संस्कृत-हिन्दी काव्यशास्त्र में उपमा की सर्वालंकारबीजता का विचार डॉ. महेन्द्र मधुकर
48. द्वितीय विश्व हिन्दी सम्मेलन : निर्णय और क्रियान्वयन श्री राजमणि तिवारी
49. विश्व की प्रमुख भाषाओं में हिन्दी का स्थान डॉ. रामजीलाल जांगिड
50. भारतीय आदिवासियों की मातृभाषा तथा हिन्दी से इनका सामीप्य डॉ. लक्ष्मणप्रसाद सिन्हा
51. मैं लेखक नहीं हूँ श्री विमल मित्र
52. लोकज्ञता सर्वज्ञता (लोकवार्त्ता विज्ञान के संदर्भ में) डॉ. हरद्वारीलाल शर्मा
53. देश की एकता का मूल: हमारी राष्ट्रभाषा श्री क्षेमचंद ‘सुमन’
विदेशी संदर्भ
54. मारिशस: सागर के पार लघु भारत श्री एस. भुवनेश्वर
55. अमरीका में हिन्दी -डॉ. केरीन शोमर
56. लीपज़िंग विश्वविद्यालय में हिन्दी डॉ. (श्रीमती) मार्गेट गात्स्लाफ़
57. जर्मनी संघीय गणराज्य में हिन्दी डॉ. लोठार लुत्से
58. सूरीनाम देश और हिन्दी श्री सूर्यप्रसाद बीरे
59. हिन्दी का अंतर्राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य श्री बच्चूप्रसाद सिंह
स्वैच्छिक संस्था संदर्भ
60. हिन्दी की स्वैच्छिक संस्थाएँ श्री शंकरराव लोंढे
61. राष्ट्रीय प्रचार समिति, वर्धा श्री शंकरराव लोंढे
सम्मेलन संदर्भ
62. प्रथम और द्वितीय विश्व हिन्दी सम्मेलन: उद्देश्य एवं उपलब्धियाँ श्री मधुकरराव चौधरी
स्मृति-श्रद्धांजलि
63. स्वर्गीय भारतीय साहित्यकारों को स्मृति-श्रद्धांजलि डॉ. प्रभाकर माचवे
"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=हिन्दी_के_विकास_में_भोजपुरी_का_योगदान_-डॉ._उदयनारायण_तिवारी&oldid=502128" से लिया गया