कलश  

Bharatkosh-logo.png पन्ना बनने की प्रक्रिया में है। आप इसको तैयार करने में सहायता कर सकते हैं।
  • धार्मिक विधियों में कलश की स्थापना का एक महत्त्वपूर्ण विधि है।
  • इसमें जल देवता, वरुण की पूजा होती है।
  • यह अनुष्ठान शांति और समृद्धि के लिए किया जाता है।
  • एक अथवा एक से अधिक कलशों की (108 कलशों) की स्थापना की जाती है।
  • कलश के एक ही प्रतीक में सभी देवता, सप्त सागर, सप्त सरिता, पृथ्वी, चारों वेद, गायत्री सभी के पापक्षय और शांति के लिए समंवय किया गया है।
  • जल से भरे कलश के अंदर आम्रपल्लव और उसके ऊपर नारियल रख कर पूजा की जाती है।

इन्हें भी देखें: मंगल कलश


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कलश&oldid=469120" से लिया गया