सप्तमी  

  • सूर्य से चन्द्र का अन्तर जब 73° से 84° तक होता है, तब शुक्ल पक्ष की सप्तमी तथा 253° से 264° तक कृष्ण सप्तमी रहती है।
  • सप्तमी के स्वामी सूर्य हैं।
  • सप्तमी का विशेष नाम ‘मित्रपदा’ है।
  • शुक्रवार के दिन सप्तमी पड़ने पर ‘क्रकच’ नामक अशुभ योग होता है, जो शुभ कार्यों में निषिद्ध होता है।
  • सोमवार तथा शुक्रवार के दिन पड़ने वाली सप्तमी तिथि मृत्युदा और बुधवार के दिन सिद्धिदा होती है।
  • आषाढ़ कृष्ण सप्तमी को यह मास शून्य होती है। इस दिन किये गये शुभ कार्य सफल नहीं होते हैं।
  • सप्तमी की दिशा वायव्य है।
  • शुक्ल पक्ष की सप्तमी में शिववास शुभ और कृष्ण पक्ष सप्तमी में अशुभ होती है।
  • विशेष – सप्तमी तिथि सूर्य ग्रह की जन्म तिथि है, इसलिये शुभ कृत्यों में वर्जित रहती है।

गजकृत्यं विवाहादि संगीतं वस्त्रभूषणम्।
यात्राप्रवेशसंग्रामसिद्धेयुः सप्तमीतिथौ।।

सप्तम्यां न स्पृशेत्तैलं नीलवस्त्रं न धारयेत्।
न चाप्यामलकैः स्नानं न कुया्रत्कलहं नरः।
सप्तम्यां नैव कुर्वीत ताम्रपात्रेण भोजनम्।।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः