अली  

अली मोहम्मद साहब के मित्र (सोहाबी) थे।

  • अली रिश्ते में मोहम्मद के चाचा और दामाद भी थे। उन्हें 'खलीफ़ा' का भी पद प्राप्त हुआ था।
  • अली के व्यक्तित्व में वीरता और दानशीलता के गुणों का समावेश था।
  • अली की वीरता की अनेक कहानियाँ प्रचलित है।
  • उदाहरणार्थ खैबर के क़िले के फाटक को इन्होंने उखाड़कर फेंक दिया था।
  • मुसलमान पहलवान आज भी 'या अली' कहकर कुश्ती लड़ते हैं।[1]



टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पुस्तक- हिन्दी साहित्य कोश भाग-2 | सम्पादक- धीरेंद्र वर्मा (प्रधान) | प्रकाशन- ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी | पृष्ठ संख्या- 27

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अली&oldid=527683" से लिया गया