किस्वत  

किस्वत काला ज़रीदार कपड़ा, जिससे इस्लाम के पवित्रतम धर्मस्थल, मक्का में काबा को ढंका जाता है।

  • हर साल मिस्र में एक नया किस्वत बनाया जाता है, जिसे तीर्थयात्री मक्का ले जाते है।
  • इस पर आस्था की मुस्लिम स्वीकारोक्ति (शहादत) और सुलेखन से अलंकृत क़ुरान की आयतों को सोने से काढ़ा जाता है।
  • प्रतिवर्ष मुख्य तीर्थयात्री (हज) के दौरान, किस्वत के स्थान पर एक सफ़ेद कपड़े का उपयोग किया जाता है, जो तीर्थयात्रियों के श्वेत वस्त्रों के अनुरूप होता है और एक पवित्र अवस्था (इहराम) में प्रवेश को व्यक्त करता है।
  • हज के अंत में, नया किस्वत उसके स्थान पर लगा दिया जाता है और पुराने को छोटे टुकड़ों में काट दिया जाता है, जो तीर्थयात्रियों को बेचे जाते हैं।
  • काबा को ढंकने की प्रथा इस्लाम-पूर्व की है; आवरण को प्रतिवर्ष बदलने का नवाचार ख़लीफ़ा उमर के शासनकाल के समय आरंभ हुआ बताया जाता है, जब किस्वतों के वज़न से काबा गिरने के कगार पर पहुँच गया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=किस्वत&oldid=505891" से लिया गया