अशर्फ़ी  

अशर्फ़ी या 'मोहर' मुग़लकालीन शासन व्यवस्था में प्रचलित सिक्का था। मुग़लकालीन राजस्व प्रणाली के दौरान प्रचलित यह 169 ग्रेन का सोने का सिक्का था, जिसका प्रयोग उपहार देने या जमा करने के लिए किया जाता था।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. यूजीसी इतिहास, पृ.सं. 145

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अशर्फ़ी&oldid=592637" से लिया गया