हुलागू  

हुलागू एक मंगोल सरदार था, जिसका सुल्तान मुहम्मद तुग़लक़ (1325-1351 ई.) ने पहले स्वागत किया था। मुहम्मद तुग़लक़ ने हुलागू को पंजाब में एक जागीर भी प्रदान की थी।

  • 1335 ई. में जब मुहम्मद तुग़लक़ दिल्ली से बाहर गया, तब हुलागू ने बगावत कर दी और स्वयं को स्वतंत्र घोषित कर दिया।
  • बगावत होने पर शीघ्र ही सुल्तान की फ़ौज ने, जिसका नेतृत्व उसका वज़ीर ख़्वाजा जहान कर रहा था, हुलागू को हरा दिया।
  • हुलागू भारत से बाहर भाग जाने में सफल रहा, लेकिन उसके समर्थकों को निर्दयतापूर्वक मार डाला गया।
  • यह बगावत मुहम्मद तुग़लक़ की सल्तनत के टूटने की पहली निशानी थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=हुलागू&oldid=341879" से लिया गया