क़दम क़दम बढ़ाये जा  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
संक्षिप्त परिचय
  • रचनाकार: राम सिंह ठाकुर

क़दम क़दम बढ़ाये जा, खुशी के गीत गाये जा
ये ज़िंदगी है क़ौम की, तू क़ौम पे लुटाये जा

तू शेर-ए-हिन्द आगे बढ़, मरने से तू कभी न डर
उड़ा के दुश्मनों का सर, जोश-ए-वतन बढ़ाये जा

क़दम क़दम बढ़ाये जा, खुशी के गीत गाये जा
ये ज़िंदगी है क़ौम की, तू क़ौम पे लुटाये जा

हिम्मत तेरी बढ़ती रहे, खुदा तेरी सुनता रहे
जो सामने तेरे खड़े, तू खाक में मिलाये जा

क़दम क़दम बढ़ाये जा, खुशी के गीत गाये जा
ये ज़िंदगी है क़ौम की, तू क़ौम पे लुटाये जा

चलो दिल्ली पुकार के, ग़म-ए-निशाँ संभाल के
लाल क़िले पे गाड़ के, लहराये जा लहराये जा

क़दम क़दम बढ़ाये जा, खुशी के गीत गाये जा
ये ज़िंदगी है क़ौम की, तू क़ौम पे लुटाये जा

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=क़दम_क़दम_बढ़ाये_जा&oldid=432920" से लिया गया