बढ़ते चलो, बढ़ते चलो, बढ़ते चलो जवानो  

संक्षिप्त परिचय
  • फ़िल्म : हमराही
  • गीतकार: मुंशी जाकिर हुसैन

बढ़ते चलो, बढ़ते चलो, बढ़ते चलो जवानो।
ऐ देश के सपूतो! मज़दूर और किसानो।।

है रास्ता भी रौशन और सामने है मंज़िल।
हिम्मत से काम लो तुम आसान होगी मुश्किल।।
कर के उसे दिखा दो, जो अपने दिल में ठानो।
बढ़ते चलो, बढ़ते चलो, बढ़ते चलो जवानो।।

भूखे महाजनों ने, ले रखे हैं इजारे।
जिनके सितम से लाखों फिरते हैं मारे-मारे।।
हैं देश के ये दुश्मन! इनको न दोस्त जानो।
बढ़ते चलो, बढ़ते चलो, बढ़ते चलो जवानो।।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बढ़ते_चलो,_बढ़ते_चलो,_बढ़ते_चलो_जवानो&oldid=269482" से लिया गया