कुचिला  

कुचिला वृक्ष की एक जाति का नाम है, जो 'लोगेनियेसी' (अंग्रेज़ी: Loganiaceae) कुल का है। इसे 'स्ट्रिक्नोस नक्स-बोमिका'[1] कहते हैं। यह वृक्ष दक्षिण भारत, विशेषत: मद्रास, ट्रावनकोर, कोचीन तथा कोरोमंडल तट में अधिक पाया जाता है।[2]

  • कारस्कर, विषतिंदुक, कुपीलु और लोकभाषा में कुचिला 'काजरा' तथा 'नक्स' आदि नामों से प्रसिद्ध है।
  • इसके वृक्ष बड़े और सुंदर होते हैं। पत्र चमकीले, 2'-4' बड़े, पत्रशिराएँ स्पष्ट और करतलाकार, पुष्प श्वेत अथवा हरित-श्वेत और फल गोल और पकने पर भड़कीले नारंगी वर्ण के होते हैं।
  • श्वेत और अत्यंत तिक्त, फलमज्जा के भीतर गोल, चिपटे, बिंबाभ[3] और लोमयुक्त बीज होते हैं। चिकित्सा के लिए इन बीजों का ही शोधन के बाद व्यवहार किया जाता है।
  • कुचिला तिक्त, दीपनपाचन, कटुपौष्टिक, नियतकालिक-ज्वर आवर्तघ्न[4], बल्य और बाजीकर होता है।
  • इससे शरीर के सब अवयवों की क्रियाएँ उत्तेजित होती हैं। नाड़ी संस्थान के ऊपर इसकी विशेष क्रिया होती है। मस्तिष्क के नीचे जीवनीय केंद्रों और पृष्ठवंश की नाड़ियों पर विशेष उत्तेजक क्रिया होती है।
  • शीतज्वर, आमाशय तथा आँतों की शिथिलता, हृदयोदर, फुफ्फुस के तीव्र रोग तथा अर्दित एवं अर्धांग वात आदि नाड़ियों के रोगों में जो गतिभ्रंश और ज्ञानभ्रंश होता है, उसमें कुचिला दिया जाता है।
  • कुचिला घोर विषैला द्रव्य है। इसमें स्ट्रिक्नीन और ब्रूसीन दो तीव्र जहरीले ऐल्कालायड रहते हैं। अधिक मात्रा में सेवन करने से धीरे-धीरे धनुर्वात के लक्षण हो जाते हैं और अंत में श्वासावरोध से मृत्यु हो जाती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. Strychnos nux vomica
  2. कुचिला (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 23 मई, 2014।
  3. Discoid
  4. Anti-Periodic

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कुचिला&oldid=610063" से लिया गया