कुछ नहीं कहा -आदित्य चौधरी  

Copyright.png
कुछ नहीं कहा -आदित्य चौधरी

बस कुछ नहीं कहा
अब कुछ नहीं रहा

     आँसू जो कम पड़ें तो
     ले ख़ून से नहा

अरसे से रुका दरिया
इस मोड़ पर बहा

     सपने में घर बनाया
     सपने में ही ढहा

यारी ग़मों से अपनी
चल ये भी इक सहा



वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कुछ_नहीं_कहा_-आदित्य_चौधरी&oldid=495235" से लिया गया