छूट भागे रास्ते -आदित्य चौधरी  

Copyright.png
छूट भागे रास्ते -आदित्य चौधरी

मंज़िलों की क़ैद से अब छूट भागे रास्ते
है बक़ाया ज़िन्दगी आवारगी के वास्ते

छोड़ कर रस्मो-रिवाजों की गली को आ गए
अब हुआ हर शख़्स हाज़िर दोस्ती के वास्ते

उसकी महफ़िल और उसके रंग से क्या साबिका [1]
अब हज़ारों मस्तियाँ हर बज़्म दिल के वास्ते [2]

ये सफ़र ताबीर है उन हसरतों के ख़ाब की [3]
जो कभी होती थीं तेरी सुह्‌बतों के वास्ते [4]

अब कोई आक़ा नियम क़ानून क्या बतलाएगा
आँधियाँ भी रुक गईं हैं इस सबा के वास्ते [5]

माजरा ये देखकर अब दश्त भी हैरान है
मरहले चलने लगे हैं क़ाफ़िलों के वास्ते [6]

मौत के आने से पहले एक लम्हा जी लिया
कौन रगड़े एड़ियाँ अब ज़िन्दगी के वास्ते


शब्दार्थ

  1. साबिका या साबका = संबंध, वास्ता
  2. बज़्म = महफ़िल
  3. ताबीर = नतीजा
  4. सुह्‌बत या सोहबत = संगत, साथ
  5. सबा = पुरवा हवा, मंद शीतल हवा
  6. मरहले= मंज़िलें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=छूट_भागे_रास्ते_-आदित्य_चौधरी&oldid=528435" से लिया गया