केदार नाथ जी की आरती  

केदार नाथ जी
Kedarnath Ji

जय केदार उदार शंकर, मन भयंकर दु:ख हरम |
गौरी गणपति स्कंद नंदी, श्री केदार नमाम्यहम |
शैल सुंदर अति हिमालय, शुभ्र मंदिर सुंदरम |
निकट मंदाकिनी सरस्वती, जय केदार नमाम्यहम |
उदक कुंण्ड है अधम पावन, रेतस कुंड मनोहरम |
हंस कुंण्ड समीप सुंदर, जय केदार नमाम्यहम |
अन्नपूर्णा सह अपर्णा, काल भैरव शोभितम |
पंच पांडव द्रोपदी सह, जय केदार नमाम्यहम |
शिव दिगम्बर भस्म धारी, अर्द्ध चंद्र विभूषितम |
शीश गंगा कण्ड फणिपति, जय केदार नमाम्यहम |
कर त्रिशूल विशाल डमरु, ज्ञान गान विशारदम |
मदमहेश्वर तुंग ईश्वर, रुद्र कल्प महेश्वरम |
पंच धन्य विशाल आलय, जय केदार नमाम्यहम |
नाथ पावन हे विशालम, पुण्यपप्रद हर दर्शनम |
जय केदार उदार शंकर पाप ताप नमाम्यहम |

इन्हें भी देखें: केदारनाथ


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=केदार_नाथ_जी_की_आरती&oldid=469166" से लिया गया