सूर्यदेव जी की आरती  

जय जय जय रविदेव, जय जय जय रविदेव |

राजनीति मदहारी शतदल जीवन दाता |

षटपद मन मुदकारी हे दिनमाणि ताता ||

जग के हे रविदेव, जय जय जय रविदेव |

नभमंडल के वासी ज्योति प्रकाशक देवा |

निज जनहित सुखहारी तेरी हम सब सेवा ||

करते हैं रविदेव, जय जय जय रविदेव |

कनक बदनमन मोहित रुचिर प्रभा प्यारी |

हे सुरवर रविदेव, जय जय जय रविदेव ||


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सूर्यदेव_जी_की_आरती&oldid=469498" से लिया गया