के. पी. केशव मेनन  

के. पी. केशव मेनन

के. पी. केशव मेनन (अंग्रेज़ी: K. P. Kesava Menon, जन्म- 1 सितम्बर, 1886; मृत्यु- 9 नवम्बर, 1978) मालाबार के प्रमुख कांग्रेसी नेता तथा समाज सुधारक थे। कांग्रेस द्वारा संचालित विभिन्न आंदोलनों में, मुख्यतः असहयोग आंदोलन तथा सविनय अवज्ञा आंदोलन का इन्होंने मालाबार में कुशलतापूर्वक संचालन किया था।

  • के. पी. केशव मेनन ब्राह्मणों के प्रभुत्व के विरोधी थे तथा उन्होंने झझबा लोगों की दशा में सुधार पर बल दिया।
  • उन्होंने अछूतों के प्रवेश को लेकर 'वैकम सत्याग्रह' में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई तथा 30 मार्च, 1924 को सभी जातियों के एक विशाल जुलूस का नेतृत्व किया।
  • 'गुरुवायूर सत्याग्रह' में भी के. पी. केशव मेनन की महत्वपूर्ण भूमिका रही थी।
  • ट्रावनकोर के दीवान रामास्वामी अय्यर की निरंकुश एवं दमनकारी नीतियों का विरोध के. पी. केशव मेनन ने किया था।
  • सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन 1966 में भारत सरकार द्वारा के. पी. केशव मेनन को 'पद्म भूषण' से सम्मानित किया गया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=के._पी._केशव_मेनन&oldid=633714" से लिया गया