विष्णु भिखाजी गोखले  

विष्णु भिखाजी गोखले (जन्म- 1825, मृत्यु- 1871) प्रसिद्ध समाज सुधारक और वैदिक धर्म के प्रचारक थे। हिंदू धर्म में जो रूढ़ियां थीं, उनका उन्होंने विरोध किया और उनमें सुधार के लिये भरसक प्रयास किये। विष्णु भिखाजी गोखले का सबसे बड़ा काम यह था कि उन्होंने उन ईसाई मिशनरियों को शास्त्रार्थ में पराजित किया, जो हिंदू धर्म का उपहास करते थे।

परिचय

प्रसिद्ध समाज सुधारक विष्णु भिखाजी गोखले का जन्म 1825 ईस्वी में हुआ था। उनके पिता गांव के पुजारी थे। गरीबी के कारण उन्हें 10 वर्ष की उम्र में ही छोटी सी नौकरी में काम करना पड़ा, किंतु उनके अंदर का मन ज्ञान प्राप्ति के लिये मचल रहा था। नौकरी के साथ-साथ उन्होंने संस्कृत और मराठी में प्राचीन हिंदू धर्म ग्रंथों का भी अध्ययन किया। 20 वर्ष की उम्र में उन्होंने आत्म ज्ञान प्राप्ति की घोषणा कर दी और 23 वर्ष की उम्र में संन्यास ले लिया। कुछ समय तक एक पर्वत पर जाकर तपस्या करने के बाद वे पंडरपुर जाकर लोगों को उपदेश देने लगे। समाज सुधार के उद्देश्य से उन्होंने 'वेदोक्त धर्म प्रकाश', 'सहज स्थितीचा निबंध' आदि पुस्तकें लिखीं।[1]

प्राचीन रूढ़ियों के विरोधी

विष्णु भिखाजी गोखले वैदिक धर्म के प्रचारक थे। हिंदू धर्म में जो रूढ़ियां थीं, उनका उन्होंने विरोध किया और उनमें सुधार के लिये भरसक प्रयास किये। वे जाति-पांत और छुआछूत को नहीं मानते थे। ब्राह्मण परिवार में जन्म लेने पर भी पिछड़े वर्ग, मुसलमान, ईसाई आदि किसी के भी हाथ का पकाया हुआ भोजन कर लेते थे। नव-जागरण के आरंभिक काल में यह साधारण बात नहीं थी। उनका मानना था कि वैदिक काल की भांति समाज में महिलाओं को भी सम्मान मिलना चाहिए।

ईसाई मिशनरियों से शास्त्रार्थ

विष्णु भिखाजी गोखले का सबसे बड़ा काम यह था कि उन्होंने उन ईसाई मिशनरियों को शास्त्रार्थ में पराजित किया, जो हिंदू धर्म का उपहास करते थे। उन दिनों ईसाई मिशनरियों ने एक 'ट्रैक सोसायटी' नाम की संस्था बना रखी थी। उस संस्था की ओर से हिंदू जीवन और धर्म की निंदा करने वाली छोटी-छोटी पुस्तिकाएं छपती थीं और लोगों में वितरित की जाती थीं। एक बार ईसाई मिशनरी वालों ने गोखले को खुलेआम शास्त्रार्थ करने की चुनौती दी। विष्णु गोखले ने इसे स्वीकार किया और चौपाटी के मैदान में कई दिनों तक यह शास्त्रार्थ चला। अंत में अपने ज्ञान, तर्क प्रणाली और बुद्धि चातुर्य से उन्होंने मिशनरियों को पराजित कर दिया।

मृत्यु

प्रसिद्ध समाज सुधारक विष्णु भिखाजी गोखले का 1871 ई. को निधन हो गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 803 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विष्णु_भिखाजी_गोखले&oldid=632313" से लिया गया