द्वारकानाथ ठाकुर  

  • द्वारकानाथ ठाकुर (1794-1846), कलकत्ता में जोड़ासांकू के प्रसिद्ध ठाकुर (टैगोर) परिवार के संस्थापक थे।
  • उन्होंने अंग्रेज़ों के सहयोग से व्यापार करके अपार धन अर्जित किया।
  • द्वारकानाथ ठाकुर ने यूनियन बैंक की स्थापना की, जो बंगालियों द्वारा खोला जाने वाला पहला बैंक था।
  • आपने तत्कालीन समाज तथा धर्म सुधार के आंदोलनों में प्रमुख रूप से हिस्सा लिया था।
  • वे राजा राममोहन राय द्वारा स्थापित ब्रह्म समाज के सबसे प्रारम्भिक सदस्यों में से थे।
  • द्वारकानाथ जी ने 1843 ई. तक ब्रह्म समाज का नेतृत्व किया, इसके बाद उनके पुत्र देवेन्द्रनाथ ठाकुर ने इसका नेतृत्व सम्भाल लिया।
  • उन्होंने 1842 तथा 1845 ई. में दो बार यूरोप की यात्रा की और महारानी विक्टोरिया से उनके महल में भेंट की।
  • अपने दोनों हाथों से उन्होंने इस तरह पैसा लुटाया कि अंत में वे कर्ज़ में डूब गये।
  • उनकी दानशीलता और उदारता के कारण उन्हें प्रिंस (राजा) पुकारा जाता था।
  • 1846 ई. में लंदन में उनकी मृत्यु हो गई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

(पुस्तक 'भारतीय इतिहास कोश') पृष्ठ संख्या-177

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=द्वारकानाथ_ठाकुर&oldid=614619" से लिया गया