गुरु घासीदास विश्वविद्यालय  

गुरु घासीदास विश्वविद्यालय (जी.जी.यू.) भारत का एक केन्द्रीय विश्वविद्यालय है, जो बिलासपुर, छत्तीसगढ़ राज्य में है। जनवरी, 2009 में केंद्र सरकार द्वारा संसद में पेश 'केंद्रीय विश्‍वविद्यालय अधिनियम-2009' के माध्‍यम से इसे केंद्रीय विश्‍वविद्यालय का दर्जा दिया गया। औपचारिक रूप से गुरु घासीदास विश्वविद्यालय राज्य विधानसभा के अधिनियम द्वारा स्थापित किया गया था।

  • यह विश्वविद्यालय का औपचारिक रूप से 16 जून, 1983 को उद्घाटन किया गया था।
  • गुरु घासीदास विश्वविद्यालय भारतीय विश्वविद्यालयों के संघ और राष्ट्रमंडल विश्वविद्यालय संघ का एक सक्रिय सदस्य है।
  • यह 'राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद' (एन.ए.ए.सी.) से बी+ के रूप में मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय है।
  • सामाजिक और आर्थिक रूप से चुनौती वाले क्षेत्र में स्थित विश्वविद्यालय को उचित नाम, महान् संत गुरु घासीदास के सम्मान स्वरूप दिया गया था, जिन्होंने दलितों, सभी सामाजिक बुराइयों और समाज में प्रचलित अन्याय के ख़िलाफ़ एक अनवरत संघर्ष छेड़ा था।
  • यह विश्वविद्यालय एक आवासीय सह-सम्बद्ध संस्था है, इसका अधिकार क्षेत्र छत्तीसगढ़ राज्य के बिलासपुर राजस्व डिवीजन में फैल रहा है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. गुरु घासीदास विश्वविद्यालय (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 16 दिसम्बर, 2012।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=गुरु_घासीदास_विश्वविद्यालय&oldid=598153" से लिया गया