ग्रीक चित्रकला  

ग्रीक चित्रकला विजुअल कला के क्षेत्र में अपने आसाधारण योगदान के लिए जानी जाती है। प्रागैतिहासिक काल के बाद पश्चिम में चित्रकला की ठोस जानकारी प्राचीन गौरवशाली ग्रीक युग से मिलती है।

  • ग्रीक चित्रकला बहुत उत्कृष्ट थी, जिससे रोमन प्रभावित हुए। इसी तरह क्रमिक युगों में अपनी पूर्ववर्ती कला, स्थितिओं, विचारधाराओं या वादों से प्रभावित होकर पश्चिमी चित्रकला आगे बढ़ी।
  • प्राचीन ग्रीक संस्कृति ज्ञान-विज्ञान, राजनीति और नाट्यकला की तरह ही दृश्य कला यानि चित्रकला और मूर्तिकला के क्षेत्र में भी अपने आसाधारण योगदान के लिए विख्यात है।
  • प्राचीन ग्रीक चित्रकारी मुख्यत: अलंकृत पात्रों के रूप में मिली है। ‘प्लिनी द एल्डर’ के अनुसार इन पात्रों की चित्रकारी इतनी यथार्थ थी कि पक्षी उन पर चित्रित अंगूरों को सही समझ कर खाने की कोशिश करते थे।
  • कला के क्षेत्र में रोमन सभ्यता ग्रीक सभ्यता से प्रभावित थी, इसलिए रोमन चित्रकारी काफी हद तक ग्रीक चित्रकारी से प्रभावित हुई। सही अर्थों में कहा जाए तो रोमन चित्रकारी की कोई अपनी विशेषता नहीं है। युद्धप्रिय रोमन जाति को कला की सभी बारीकियां ग्रीकों से ही मिली। रोमन भित्ति चित्र आज भी दक्षिणी इटली में देखे जा सकते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ग्रीक_चित्रकला&oldid=611020" से लिया गया