पुरुगुप्त  

  • स्कन्दगुप्त के बाद गुप्त साम्राज्य का ह्रास प्रारम्भ हो गया।
  • स्कन्दगुप्त की कोई सन्तान नहीं थी, अतः उसकी मृत्यु के बाद पुरुगुप्त सम्राट बना।
  • वह स्कन्दगुप्त का भाई था, और कुमारगुप्त की पट्टमहारानी का पुत्र था। इस समय तक वह वृद्ध हो चुका था।
  • उसके राजगद्दी पर बैठते ही गुप्त साम्राज्य में अव्यवस्था प्रारम्भ हो गई।
  • हूणों के आक्रमणों से पहले ही गुप्त साम्राज्य को ज़बर्दस्त चोटें लग रही थीं, अब वाकाटक वंश ने फिर से सिर उठा लिया।
  • समुद्रगुप्त ने इन्हीं वाकाटकों को परास्त कर गुप्त साम्राज्य के अधीन किया था। पर अपने प्रदेश में वाकाटक राजा सामन्तों के रूप में विद्यमान थे।
  • चंद्रगुप्त द्वितीय ने अपनी कन्या प्रभावती गुप्त का वाकाटक राजा से विवाह कर इनके साथ मैत्री तथा घनिष्ठ सम्बन्ध स्थापित किया था।
  • हूणों के आक्रमणों के समय इन्होंने फिर से अपनी शक्ति को बढ़ाना शुरू किया, और प्रतापी स्कन्दगुप्त के मरते ही वाकाटक राजा नरेन्द्रसेन ने अपने को स्वतंत्र उदघोषित कर दिया।
  • एक शिलालेख से सूचित होता है, कि नरेन्द्रसेन ने अपने वंश की डूबी हुई शक्ति का पुनरुद्धार किया था।
  • इस प्रकार स्कन्दगुप्त के निर्बल भाई पुरुगुप्त के शासन में वाकाटक राज्य फिर से स्वतंत्र हो गया।
  • पुरुगुप्त बौद्ध धर्म का अनुयायी था।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पुरुगुप्त&oldid=155630" से लिया गया