बाबा हरभजन सिंह मेमोरियल  


बाबा हरभजन सिंह मेमोरियल
बाबा हरभजन सिंह मंदिर, सिक्किम
विवरण 'बाबा हरभजन सिंह मेमोरियल' सिक्किम स्थित एक प्रसिद्ध धार्मिक तथा पर्यटन स्थल है। यहाँ काफ़ी संख्या में लोग दर्शनों के लिए आते हैं।
राज्य सिक्किम
शहर गंगटोक
ऊँचाई 4,420 मीटर
विशेष यहाँ मंदिर में आने वाले भक्त मंदिर में पानी की एक बोतल छोड़ देते हैं और वापसी के दौरान उसे अपने साथ ले जाते हैं।
संबंधित लेख सिक्किम, गंगटोक, सिक्ख धर्म, सिक्ख धार्मिक स्थल, सिक्ख
अन्य जानकारी यहाँ का प्रसिद्ध मंदिर '23 पंजाब रेजीमेंट' के सैनिक हरभजन सिंह को समर्पित है, जो 1968 में एक नदी पार करने के दौरान डूब गए थे।

बाबा हरभजन सिंह मेमोरियल सिक्किम के गंगटोक में नाथुला और जेलेप्ला दर्रे के मध्य में स्थित है। यह समुद्र तल से लगभग 4,420 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह '23 पंजाब रेजीमेंट' के सैनिक हरभजन सिंह को समर्पित है। हरभजन सिंह 1968 में एक नदी पार करने के दौरान डूब गए थे।

मान्यता

यह एक लोकप्रिय तीर्थ केंद्र है, जहाँ हर रोज सैकड़ों श्रद्धालु दर्शनों के लिए आते हैं। यह माना जाता है कि मंदिर में मनोकामनाएं पूर्ण करने की शक्तियाँ हैं। मंदिर में आने वाले भक्त मंदिर में पानी की एक बोतल छोड़ देते हैं और वापसी के दौरान उसे ले लेते हैं।

कथा

इस मंदिर के पीछे बहुत ही रोचक कथा है। कहा जाता है कि यह मंदिर 23वें पंजाब रेजिमेंट के सिपाही बाबा हरभजन सिंह की स्मृति में बनाया गया है, जो करीब 35 साल पहले डेंग ढुकला की ओर खच्चहरों के एक झुंड को ले जाते वक्त यहां से लापता हो गये थे। इसके बाद जब छानबीन हुई, तो तीन दिन बाद बाबा का शव मिला। यह कहा जाता है कि उनके शरीर को इसलिये खोजा जा सका, क्योंकि उन्होंने खुद लोगों को अपने शव की ओर पहुंचाया था। एक बार बाबा के सहयोगियों ने उन्हें सपने में देखा और फिर उनकी स्मृुति में मंदिर बनवाया। यह वह समय था, जब मंदिर अस्तित्व में आया। मंदिर में उनकी स्मृति में एक समाधि है और कहा जाता है कि वे मंदिर में आते हैं और हर रात चक्कर लगाते हैं। माना जाता है कि वे आज भी ड्यूटी पर हैं और भारत-चीन सीमा पर तैनात सैनिकों के जीवन की रक्षा करते हैं।[1]

महत्त्वपूर्ण तथ्य

हर वर्ष 14 सितंबर को वे अपनी वार्षिक छुट्टी पर जाते हैं और पंजाब में अपने पैतृक कपूरथला का दौरा करते हैं। जबकि उनके सभी निजी सामानों के साथ एक जीप निकटतम रेलवे स्टेशन के लिए रवाना होती है, टिकट बुक होते हैं और एक बर्थ उनकी यात्रा के लिए आरक्षित होती है। दो सैनिक उनकी यात्रा पर उनके साथ होते हैं और रुपये की एक छोटी राशि भी हर महीने इस 'आत्मा सैनिक' की माँ के लिए भेजी जाती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. बाबा हरभजन सिंह मेमोरियल मंदिर, गंगटोक (हिन्दी) नेटिव प्लेनेट। अभिगमन तिथि: 20 जनवरी, 2015।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बाबा_हरभजन_सिंह_मेमोरियल&oldid=517462" से लिया गया