हनुमान टोक  

हनुमान टोक
हनुमान टोक
विवरण हनुमान टोक सिक्किम राज्य की राजधानी, पूर्वोत्तर भारत में 7200 फुट की ऊंचाई पर एक पहाड़ी के ऊपर स्थित, भगवान हनुमान को समर्पित है।
राज्य सिक्किम
भौगोलिक स्थिति - 27° 20′ 52.08″, पूर्व- 88° 37′ 42.96″
Map-icon.gif गूगल मानचित्र
अन्य जानकारी हनुमान टोक पहाड़ी की चोटी से, कोई भी माउंट कंचनजंगा, गंगटोक शहर के साथ-साथ लक्ष्‍यामा - स्तूपों और चोर्टेन के साथ एक शाही क़ब्रिस्तान, जहां सिक्किम के शाही परिवार के सदस्यों को दाह संस्कार किया गया है के मनोरम दृश्य का आनंद ले सकता है।
अद्यतन‎

हनुमान टोक (अंग्रेज़ी: Hanuman Tok) सिक्किम की राजधानी गंगटोक से 9 किलोमीटर दूर पूजा की पवित्र जगह सबसे शांत मंदिरों में से एक है।

  • यह 7200 फुट की ऊंचाई पर एक पहाड़ी के ऊपर स्थित, भगवान हनुमान को समर्पित है।
  • यह मंदिर बहुत पवित्र माना जाता है और मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाला मंदिर कहा जाता है।
  • कहा जाता है कि जब भगवान हनुमान जी हिमालय पर्वत से संजीवनी बूटी लेकर लंका जा रहे थे, तो इस पहाड़ की एक चट्टान पर रुककर थोड़ी देर तक विश्राम किया था। आज उसी चट्टान पर हनुमान जी का एक मंदिर एवं विशालकाय मूर्ति भी अवस्थित है।
  • यह एक ऐसे स्थान में स्थित है, जो पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त है।
  • हनुमान टोक का भारतीय सेना, यहाँ के निवासी और स्थानीय लोगों के योगदान द्वारा ध्यान रखा जाता है।
  • मंदिर परिसर को हाल ही में पुनर्निर्मित किया गया था, जिसके साथ आगंतुकों की रक्षा के लिए कई सार्वजनिक उपयोगिताओं को जोड़ा गया था।
  • हनुमान टोक पहाड़ी की चोटी से, कोई भी माउंट कंचनजंगा, गंगटोक शहर के साथ-साथ लक्ष्‍यामा - स्तूपों और चोर्टेन के साथ एक शाही क़ब्रिस्तान, जहां सिक्किम के शाही परिवार के सदस्यों को दाह संस्कार किया गया है के मनोरम दृश्य का आनंद ले सकता है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हनुमान टोक, गंगटोक (हिन्दी) ने‍टिव प्‍लानेट। अभिगमन तिथि: 22 सितम्बर, 2016।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=हनुमान_टोक&oldid=600038" से लिया गया