मदिकेरी  

मदिकेरी, कर्नाटक

मदिकेरी को मडिकेरी, मधुकेरी और मरकरा के नाम से भी जाना जाता है। मदिकेरी दक्षिण-पश्चिम भारत के दक्षिण कर्नाटक राज्य में है।

  • मदिकेरी पश्चिमी घाट में 1,160 मीटर की ऊँचाई पर मैसूर से मंगलोर जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है।
  • 1681 में मुड्डा राजा ने इस मध्यवर्ती, लेकिन दुर्गम क्षेत्र को कुर्ग के स्वतंत्र हिंदू वंश की राजधानी के लिए चुना।
  • 1812 में लिंग राजा द्वारा बनवाया गया दुर्ग और पहाड़ी की चोटी पर ओंकारेश्वर मंदिर इस शांत नगर के निकट स्थित है।
  • एक सुंदर छोटा बग़ीचे में स्थित राजा का स्थान मनोहरी दृश्य उत्पन्न करता है।
  • यहाँ एक विधि महाविद्यालय कई महाविद्यालय हैं, जो मैसूर विश्वविद्यालय से संबद्ध हैं।
  • इसके असपास के क्षेत्र में कॉफ़ी और चाय के बागान हैं।

वन्यजीव

यहाँ कई वन्यजीव अभयारण्य और आरामगाह हैं, जिनमें बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान, एक बाघ संरक्षण क्षेत्र; मछली, मगरमच्छ, पक्षियों, हिरन व अन्य जानवरों का प्राकृतिक आवास भीमेश्वरी और मछली पकड़ने का कैप भी है; भद्रा वन्यजीव अभयाण्य, बिलिगिरि पर्वतीय अभयाण्य; काबिनी संरक्षित क्षेत्र, नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान, पक्षियों के लिए विख्यात रंगानाथिट्टे और बाइसन नदी आश्रयणी के साथ दांडेली वन्यजीव अभयारण्य शामिल हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

वीथिका

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मदिकेरी&oldid=607219" से लिया गया