राम मिश्र  

राम मिश्र श्रीवैष्णव सम्प्रदाय के एक आचार्य, जो नाथमुनि के प्रशिष्य तथा पुण्डरीकाक्ष के शिष्य थे।

  • इनके उपदेश के प्रभाव से यामुनाचार्य राज सम्मान छोड़ कर रंगनाथजी के सेवक हो गए थे।
  • एक तरह से राम मिश्र संन्यासी यामुनाचार्य के गुरु थे।
  • राम मिश्र के विषय में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दू धर्मकोश |लेखक: डॉ. राजबली पाण्डेय |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 553 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=राम_मिश्र&oldid=605639" से लिया गया