एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "१"।

सत्य देव सिंह

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
सत्य देव सिंह
सत्य देव सिंह
पूरा नाम सत्य देव सिंह
जन्म 27 फ़रवरी, 1945
जन्म भूमि कोलकाता, पश्चिम बंगाल
मृत्यु 17 दिसंबर, 2020
मृत्यु स्थान गुरुग्राम, हरियाणा
पति/पत्नी सरोज रानी सिंह
संतान दो पुत्र, तीन पुत्रियाँ
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि राजनीतिज्ञ
पार्टी भारतीय जनता पार्टी
कार्य काल संसद सदस्य - 1991-1998
शिक्षा बीएससी
अन्य जानकारी सत्य देव सिंह 1991 और 1996 में भारतीय जनता पार्टी के सदस्य के रूप में बलरामपुर संसदीय सीट से लोकसभा गये थे।

सत्य देव सिंह (अंग्रेज़ी: Satya Deo Singh, जन्म- 27 फ़रवरी, 1945; मृत्यु- 17 दिसंबर, 2020) भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज राजनेता थे। वे 1991 और 1996 में भाजपा के सदस्य के रूप में भारतीय आम चुनाव में बलरामपुर से लोकसभा के लिए चुने गए थे। सत्य देव सिंह 1980 से 1985 तक भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष भी रहे। वह अटल बिहारी वाजपेयी, आरएसएस और भाजपा के कई बड़े नेताओं के करीबी थे।

परिचय

सत्य देव सिंह युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ-साथ प्रदेश उपाध्यक्ष समेत कई महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके थे। अपनी सादगी और पारदर्शी राजनीति के कारण वह भूतपूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कोर कमेटी तक में शामिल रहे थे। उन्होंने 1977 में गोंडा से सांसद पद का चुनाव लड़ा और जीते। राम मंदिर आंदोलन में भी देवीपाटन मंडल से उनकी भूमिका महत्वपूर्ण रही।

राजनीतिक कॅरियर

सत्य देव सिंह 1977 में पहली बार गोण्डा लोकसभा क्षेत्र से भारतीय लोकदल के टिकट पर सांसद बने। 1991 और 1996 में भारतीय जनता पार्टी के सदस्य के रूप में बलरामपुर संसदीय सीट से लोकसभा गए। 1980 से 1985 तक भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहे। वे अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी जैसे बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं के करीबी रहे।

मृत्यु

सत्य देव सिंह का निधन 17 दिसंबर, 2020 को हृदयाघात से हुआ। तबीयत बिगड़ने के कारण उन्हें गुरुग्राम स्थित मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां बुधवार रात उन्होंने अंतिम सांस ली। उनकी मृत्यु से कुछ दिन पूर्व ही उनकी पत्नी सरोज रानी सिंह का कोरोना से निधन हो गया था।, जिसके बाद वे सदमें में थे। सत्य देव सिंह के निधन से बीजेपी की अपूरणीय क्षति हुई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख