हर्षवर्धन की रचनाएँ  

पूष्यभूति वंशीय शासक हर्षवर्धन (606-647) महान् विजेता एवं साम्राज्य निर्माता होने के साथ-साथ एक उच्च प्रतिभा के धनी नाटककार भी थे। हर्ष को संस्कृत में लिखित तीन नाटकों का रचियता माना जाता है-

  1. रत्नावली
  2. नागानन्द
  3. प्रियदर्शिका


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=हर्षवर्धन_की_रचनाएँ&oldid=620953" से लिया गया