राम रैया  

राम रैया सिक्ख धर्म से असहमति रखने वाले एक समूह के सदस्य हैं। ये सिक्खों के प्रसिद्ध गुरु हरराय के सबसे बड़े बेटे राम राय के वंशज हैं।[1]

  • राम राय को उनके पिता ने तत्कालीन मुग़ल राजधानी दिल्ली में राजदूत बनाकर भेजा था।
  • दिल्ली में राम राय ने बादशाह औरंगज़ेब का विश्वास जीत लिया, लेकिन इससे उनके पिता नाराज़ हो गए।
  • गुरु हरराय ने अगला गुरु चुनते समय राम राय को छोड़ दिया और उनके छोटे भाई हरिकृष्ण के पक्ष में निर्णय लिया।
  • कुछ राम रैया गुरुद्वारे देहरादून, उत्तरांचल में औरंगज़ेब द्वारा दी गई भूमि पर स्थापित व संचालित हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारत ज्ञानकोश, खण्ड-5 |लेखक: इंदु रामचंदानी |प्रकाशक: एंसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली और पॉप्युलर प्रकाशन, मुम्बई |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 89 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=राम_रैया&oldid=503806" से लिया गया