अथर्वा  

  1. सारे संसार में यक्षों की प्रथा चलाने-वाले ऋषि का नाम।[1] इनका ब्याह कर्दम ऋषि की पुत्री चित्ति से हुआ था। दधीचि इनका पुत्र था जिसका सिर घोड़े का था।[2]
  2. एक ब्राह्मण पुरोहित का नाम जिसे महाराज युधिष्ठिर ने अपने राजसूय यज्ञ में बुलाया था।[3]
  3. लौकिकाग्नि-भृगु। दर्पहाके पिता। यह दध्यङ्डाथर्वणकी श्रेणीका है।[4]
  4. एक ऋषि, जो ब्रह्मा के पुत्र कहे जाते हैं। ये अग्नि को स्वर्ग से पृथ्वी पर लाए थे।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भाग. 3.24.24
  2. भाग.4.1.42
  3. भाग.10.74.9
  4. वायु.29.8.9; ब्रह्मा. 2.12.9

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अथर्वा&oldid=226803" से लिया गया